Categories
News

जब अभि’नंदन की दहाड़ से कांप उठे पाकि’स्तान के विदे’श मंत्री, जानिए अभिनं’दन की रिहाई का सच.

ब्रेकिंग न्यूज़

थर-थर कांप रहे थे पाकिस्तान के विदेश मंत्री, जानिए अभिनंदन की रिहाई का सच

भार’तीय वायु’सेना के विं’ग कमांड’र अभि’नंदन वर्ध’मान की घर वाप’सी को लेकर पाकि’स्तान का डर अब सा’मने आया है. पाकि’स्तान को डर था कि यदि अभि’नंदन को आजा’द नहीं किया गया, तो भारत हमला बोल देगा. पाकि’स्तानी सां’सद अयाज सा’दिक ने यह खुला’सा किया है.

खास बातें

  • पाकि’स्तानी सां’सद अयाज सा’दिक ने किया खुलासा
  • अभि’नंदन की रिहाई न करने पर हमले का था डर
  • इस मु’द्दे पर हुई बैठ’क में वि’देश मं’त्री के पैर कांप रहे थे

इस्ला’माबाद: भार’तीय वायु’सेना के विंग कमां’डर अभि’नंदन वर्ध’मान (Abhinandan Varthaman) को पाकि’स्तान ने केवल इस’लिए आजाद नहीं किया था कि वो भार’त से रिश्ते बिगा’ड़ना नहीं चाहता था, ब’ल्कि उसे डर था कि भा’रत उस पर हमला कर देगा. अभि’नंदन की घर वाप’सी के लंबे स’मय बाद पाकि’स्तानी सां’सद अयाज सा’दिक (ayaz sadiq) ने इम’रान सरकार के खौफ का खुलासा किया है. 

इसलिए छोड़ देना चाहिए
अया’ज ने दावा किया है कि अभि’नंदन की रिहाई को लेकर प्रधान’मंत्री इम’रान खान (Imran Khan) और वि’देश मं’त्री शाह मह’मूद कुरै’शी (Shah Mahmood Qureshi) खौफ में थे. कुरै’शी ने यहां तक कहा था कि भारत पाकि’स्तान पर हमला करने वाला है और इसलिए अभि’नंदन को छोड़ना जरूरी है.

कांप रहे थे पैर
अयाज ने कहा कि हिंदुस्तान कोई हमला नहीं करने वाला था. सरकार को केवल घुटने टेककर अभिनंदन को वापस भेजना था और उसने वही किया. उस बैठक में कुरैशी के पैर कांप रहे थे, वे सभी को यह कहकर डरा रहे थे कि यदि अभिनंदन को नहीं छोड़ा तो भारत रात नौ बजे हमला कर देगा. जबकि हकीकत में ऐसा कुछ भी नहीं होने वाला था.

इमरान नहीं आये थे बैठक में
अयाज ने संस’द में अपने भा’षण में सर’कार को निशा’ना बनाते हुए कहा कि कुल’भूषण के लिए हम अध्या’देश लेकर नहीं आए थे. कुल’भूषण को हमने इतनी एक्से’स नहीं दी थी, जितनी इस हूकु’मत ने दी. उन्होंने आगे कहा, ‘अभि’नंदन की क्या बात करते हैं, शाह मह’मूद कुरै’शी और आ’र्मी चीफ उस मी’टिंग में थे. कुरैशी ने कहा था कि अभिनं’दन को वापस जाने दें, खुदा का वास्ता है अभि’नंदन को जाने दें, भा’रत रात 9 बजे अटै’क करने जा रहा है. उस बैठक में इम’रान खा’न ने आने से इन’कार कर दिया था’. 

क्या है मामला
गौर’तलब है कि कि पिछले साल अभिनं’दन का वि’मान क्रैश हो गया और वह पाक अधि’कृत कश्मी’र में फंस गए थे. जहां से उन्हें पाक सैनि’कों ने पकड़ लिया था. पाकि’स्तान ने अभि’नंदन को मान’सिक रूप से तोड़ने की बहुत को’शिश की, लेकिन वह काम’याब नहीं हो पाया. आखिर’कार पाकि’स्तान को अभि’नंदन को 1 मार्च को अ’टारी-वाघा सीमा से भार’त भेजना पड़ा.