Categories
News

मि’लिए क’लयुग की सा’वित्री से जो यम’राज से भी छी’न ला’ई अ’पना सुहा’ग, प’ति के लि’ए दे दी अ’पनी……

वायरल खबर

बा’ड़मेर. औ’रतें व्र’त-त्यौहा’र रख’कर प’ति की लं’बी उ’म्र की दु’आ कर’ती है। उन’की जु’बान प’र य’ह प्रा’र्थना भी र’हती है कि उन’की उ’म्र भी सु’हाग को ल’ग जा’ए ले’किन वे स’दा सुहा’गिन र’हे। महिला’एं एे’सा कह’ती भी न’हीं है वे अप’ने सु’हाग के लि’ए खु’द की जा’न भी दां’व प’र ल’गा दे’ती है।

बो’ला गां’व की चं’द्रा ने अ’पने चां’द (प’ति) को बचा’ने के लि’ए अ’पनी कीड’नी दे दी औ’र अ’ब दो’नों प’ति-प’त्नी ए’क-ए’क कि’डनी के सहा’रे जिं’दगी जी र’हे है।

बो’ला गां’व के रा’शन डी’लर चुत’राराम 2008 में बी’मार हु’ए। अह’मदबाद में जां’च कर’वाई तो दो’नों कि’डनी फे’ल ब’ताई। इस’के बा’द डाय’लिसिस प’र आ ग’ए औ’र कि’डनी ट्रांस’प्लांट ही उन’की जिंद’गी ब’चाने का ज’रिया था। प’त्नी चंद्रा’देवी को प’ता चल’ते ही तुरं’त तैया’र हु’ई औ’र अप’नी कीड’नी दे दी।

2008 से अ’ब त’क दो’नों प’ति प’त्नी ए’क-ए’क कि’डनी प’र जी र’हे है। दो’नों के ए’क ल’ड़का है। चुत’राराम क’हते है कि अप’नी कर’वां चौ’थ को खु’द मे’री प’त्नी ने जिं’दा र’खा है..महि’लाएं त्या’ग की प्र’तिमूर्ति है।

10 सा’ल के सं’घर्ष..प’वनी की प’ति से’वा..

धो’रीमन्ना. परि’वार औ’र प’ति के लि’ए त्या’ग की मिसा’ल है धोरी’मन्ना की ग’रीब महि’ला पव’नी। करी’ब द’स सा’ल पह’ले प’वनी के प’ति चन’णाराम के सा’थ दु’र्घटना हु’ई। ह’माली(प’त्थर उ’ठाने वा’ला ) चन’णाराम के हा’थ पां’व ने का’म क’रना बं’द क’र दि’या औ’र उस’का बो’लना भी बं’द।

बि’स्तर प’र आ ग’ए चनणा’राम के छ’ह बेटि’यां औ’र दो लड़’के थे। पि’ता बाद’राराम को ल’कवा हो ग’या औ’र मां भी बी’मार। एे’से हा’लात में प’त्नी पव’नी ने घ’र को सं’भालने ल’गी। खे’ती की ज’मीन औ’र मज’दूरी के सहा’रे प’ति की से’वा में जु’टी है।

द’स सा’ल से प’ति की से’वा का र’ही प’वनी कह’ती है कि सर’कारी यो’जनाएं औ’र म’दद उन’के द्वा’र त’क क’म ही पहुं’ची है ले’किन व’ह अप’ने सु’हाग के सा’थ जी र’ही है,य’ह उस’के लि’ए का’फी है। व’ह क’रवा चौ’थ प’र अ’पने प’ति की लं’बी उ’म्र की का’मना क’रती है।

दे’श की र’क्षा प’हला ध’र्म

बीए’सएफ बा’ड़मेर की 115 वीं बटा”लियन में 06 महि’लाएं का’र्यरत है। इ’नमें से दो बा’हर के रा’ज्यों से औ’र चा’र स्था’नीय है। कर’वां चौ’थ का व्र’त रख’ने वा’ली इ’न बीए’सएफ की महि’लाओं का क’हना है कि उन’के लि’ए दे’श की र’क्षा प्रथ’म है।

निर्म’ला क’हती है कि व्र’त-त्यौ’हार प’र म’न से प्रा’र्थना कर’ते है कि प’ति की लं’बी उ’म्र हों…दे’श की र’क्षा पह’ला क’त्र्तव्य है। वो कह’ती है कि ह’म तो य’हां है, सी’याचीन में जो ज’वान है उन’के घ’र प’र भी तो महि’लाएं आ’ज क’रवां चौ’थ क’र र’ही है।