Categories
Other

निर्भ’या केस : दो’षी पति को बचाने के लिए पत्नी ने चली ऐसी चाल जानकर हैरा’न रह जाएँगे आप

दिल्ली के चर्चित निर्भ’या के’स के चारों दो’षियों को 20 मार्च को फ़ां’सी होनी है लेकिन इससे पहले इन दो’षियों ने फ़ां’सी टालने के लिए सारे पैंतरे अपना लिए हैं।क़ानून विशेषज्ञों का कहना है कि अब इन दो’षियों की फ़ां’सी टलना मुमकिन नहीं है क्योंकि उनके पास अब कोई भी कानूनी रास्ता नहीं बचा. दो’षियों ने इंटरनेशनल कोर्ट में भी अपील की लेकिन वहां भी उनकी कोई सुनवाई नहि होगी क्योंकि इंटरनेशनल कोर्ट सिर्फ दो देशों के बीच के मामले की ही सुनवाई करता है. दो’षियों की फ़ां’सी की तारीख़ पास आने से पहले ही दो’षी अक्षय ठाकुर की पत्नी ने फ़ां’सी रोकने के लिए नयी चाल चली है।

बता दें दो’षी अक्षय ठाकुर की पत्नी ने औरंगाबाद परिवार न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश रामलाल शर्मा के न्यायालय में तलाक की अर्जी दी है और कहा है कि ‘मैं उसकी विधवा के रूप में अपना जीवन नहीं जी सकती’। ऐसा लग रहा है ये अक्षय को बचाने की नयी चाल है

औरंगाबाद के अधिवक्ताओं का कहना है कि तलाक की यह अर्जी भी कानूनी दांव-पेच का एक हथकंडा ही है। यह अक्षय की फां’सी को टलवाने की एक साजिश है।

वकील ने कहा-पत्नी का ये अधिकार बनता है

अक्षय की पत्नी, पुनीता के वकील मुकेश कुमार सिंह ने बताया कि पीडि़त महिला को विधिक अधिकार है कि वह हिंदू विवाह अधिनियम के तहत कुछ खास मामलों में तलाक ले सकती है। उसमें दु’ष्कर्म का मामला भी शामिल है। अगर दु’ष्कर्म के मामले में किसी महिला के पति को दो’षी ठहरा दिया जाता है, तो वह तलाक के लिए अर्जी दायर कर सकती है। 

अक्षय ठाकुर की पत्नी ने कहा-उसकी विधवा बनकर नहीं रह सकती

अक्षय की पत्नी पुनीता ने कोर्ट में दी गई अपनी अर्जी में कहा है कि –उनके पति को निर्भ’या के दु’ष्कर्म के मामले में दोषी ठहराया गया है और उन्हें कोर्ट के फैसले के बाद अब फां’सी दी जानी है लेकिन मेरे पति नि’र्दोष हैं, ऐसे में मैं उनकी विधवा बन कर नहीं रहना चाहती। इसलिए उसे अपने पति से तलाक चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.