Categories
News

ला’खों में हो’ता है ऐ’सा ब’च्चा, पै’दा हो’ते ही डॉ’क्टर क’रने ल’गे रि’सर्च, सा’इंस के लि’ए ब’ड़ी चुनौ’ती, ब’च्चा जिं’दा कै’से…

हिंदी खबर

को’टा (राजस्था’न). अ’क्सर ब’च्चों की मौ’त के लि’ए सु’र्खियों में रह’ने वा’ला को’टा का जे’के लो’न अस्पता’ल ए’क बा’र फि’र च’र्चा में ब’ना हु’आ है। क्यों’कि य’हां ए’क ऐ’से ब’च्चे ने ज’न्म लि’या है, जि’सका स’च  जा’न य’हां के क्या पू’रे प्रदे’श के डॉ’क्टर हैरा’न हैं। क्यों’कि अ’ब इ’स ब’च्चे की बी’मारी का जि’क्र ना सि’र्फ चि’कित्सकों के बी’च हो र’हा है, ब’ल्कि यह एक  रिस’र्च बन ग’या है। अ’भी तक आपने खून का रंग लाल सुनते और देखते आए हैं, लेकिन इस बच्चे के खून का रंग सफेद है। रेयर डिजीज की वजह से डॉक्टर्स कह रहे हैं कि आखिर यह बच्चा जिंदा कैसे है।  

पूरे प्रदेश में ऐसा अब तक पहला मा’मला

दरअसल, कुछ दिन पहले जेके लोन अस्पताल में यह बच्ची इलाज के लिए आई हुई है। जो कि महज तीन महीने की उम्र का है, माता-पिता ने उसका नाम हिना रखा हुआ है। जब इस बच्ची की बीमारी के बारे में डॉक्टरों को पता चला तो वह शॉक्ड थे। कई का तो कहना था कि हमने पूरी जिंदगी में ऐसा बच्चा क्या कोई इंसान नहीं देखा जिसका खून लाल की जगह सफेद हो। वहीं सीनियर डॉक्टरों का कहना है कि इस हॉ’स्पिटल में ऐसा यह पहला मामला देखने को मिला है।