Categories
bollywood

ठरकी है अमिताभ बच्चन! अब इस एक गलती की वजह से अमिताभ बच्चन को जमकर पड़ रही गा’लियां..

बॉलीवुड खबर

किसी भी खूबसूरत चीज़ की तारीफ करना कोई बुरी बात नहीं हैं. लेकिन एक चीज़ की तारीफ इस तरह करना की उसके सामने दूसरी चीज़ छोटी हो जाएं या आप उसे छोटा होने पर महसूस करा दो तो ये किसी भी तरह से सही नहीं हैं. अब यही गलती अमिताभ बच्चन से कौन बनेगा करोड़पति में हो गयी हैं.

अमिताभ ने एक सवाल के दौरान इंडियन-अमेरिकन इकोनॉ’मिस्ट और इंटरने’शनल मोनेटरी फंड (IMF) की चीफ इकोनॉ’मिस्ट गीता गोपीनाथ की सुंदरता की तारीफ कर दी. चलो यहाँ तक तो ठीक था कोई प्रॉब्लम नहीं हैं. लेकिन उनका तारीफ करने के जो तरिका था वो लोगो को पसंद नहीं आया. तो सबसे पहले ये सुन लीजिये की अमिताभ बच्चन ने क्या कहा.

‘केबीसी’ में अमिताभ बच्चन ने गीता गोपी’नाथ पर आधा’रित एक सवाल किया था। उन्होंने इकोनॉ’मिस्ट की फोटो दिखाते हुए पूछा था कि वे किस सं:स्थान की चीफ इकोनॉ’मिस्ट हैं? जब स्क्रीन पर गीता की फोटो दिखाई गई तो बिग बी ने कमेंट किया, “इतना खूब’सूरत चेहरा इनका, इकॉ’नमी के साथ कोई जोड़ ही नहीं सकता।”

एक तरफ अमिताभ बच्चन के इस कमेंट को गीता गोपीनाथ ने कॉ’म्प्ली’मेंट के तौर पर लिया है। वहीं, सोशल मीडिया यूजर्स इसे सेक्सि’स्ट बता रहे हैं। गीता ने शो की क्लिप साझा करते हुए लिखा है, “ओके। मुझे नहीं लगता कि मैं कभी इससे उबर पाऊंगी। बिग बी की बड़ी फैन होने के नाते यह अब तक का सबसे महान कॉ’म्प्ली’मेंट है, यह स्पेशल है।

अब एक यूजर ने लिखा,”ये @SrBachchan
एक महान’ता का झूठा चोला पहना हुआ पापी शै’तान है.
ये sexist comment करणे में महा’णता समझता है पर, #KisanAndolan #PetrolPriceHike #unemploymentbenefits पे ट्विट नहीं कर सकता.

एक और यूजर ने लिखा,” एक्ट्रे’स रेखा का दिल तोडा जो आज तक इनके नाम का सुंदर भरती हैं. किसी ने लिखा ,” बुढ़ा से’क्सी हो गया है बु’ढापे मे. एक और यूजर ने लिखा,”बुढ़ा’पे में सभी सठिया जाते है ये बिग बी ने साबित कर दिया।

किसी ने अमिताभ बच्चन को ठरकी बु’द्धा कहा तो किसी ने सठि’याँ हुआ इंसान कहा. लेकिन कुछ लोगो ने तारीफ भी की हैं. जैसे के यूजर ने लिखा,”अमि’ताभ द्वारा कही गई बातों में कुछ भी गलत नहीं है। उन्होंने हल्के लहजे में कहा। हमें हर चीज को गंभी’रता से नहीं लेना चाहिए। वा’स्तव में, अमिताभ ने अपने देशवा’सियों को गीता गोपीनाथ को मुख्य अर्थ’शास्त्री के रूप में पेश किया। इस परिचय से पहले उसे कोई नहीं जानता था।

अब कुछ का ये भी कहना हैं की अमि’ताभ को गीता गोपी’नाथ की सिर्फ सुंद’रता ही दिखाई पडी उनके भीतर क्या टै’लेंट हैं और वो वहा तक कैसी पहुंची ये सब नहीं दिखता. वैसे जब इस चीज़ से गीता गोपी’नाथ को कोई प्रॉ’ब्लम नहीं हैं तो बाकी लोगो को ये प्रॉ’ब्लम नहीं होनी चाहिए