Categories
Other

दं-गा तो था बहाना पूरे प्लान के साथ की गयी थी अंकित शर्मा के मौ-त की साजिश, सच आया सामने?

उत्तर पूर्वी दिल्ली में भड़-की हिं-सा में अब तक बहुत से लोगों की मौ-त हो चुकी है और बहुत से लोग घा-यल हो चुके हैं. आपको बता दें कि हिं-सा-ग्रस्त इलाक़ों में क-र्फ़्यू लगाया गया है. इस वजह से पिछले दिनों से किसी भी प्रभावित पुलि-स स्टेशन में कोई भी घ-टना दर्ज नहीं हुई है. इसी बीच इस हिं-सा में मा-रे गये अंकित शर्मा के मौ-त की सच्चाई सामने आई हैं. आपको बताते है उस सच्चाई के बारे में.

आईबी अधिकारी अंकित शर्मा की ह-त्या मामले की चल रही जांच से यह संकेत मिल रहे हैं कि यह एक ‘टा-र्गेट की-लिं-ग’ थी यानी अंकित को जानबूझकर नि-शाना बनाया गया था. सूत्रों ने बताया कि यह सिर्फ दं-गे में हुई मौ-त का मामला नहीं है. पुलि-स पूरे घट-नाक्र-म की कड़ी जोड़ रही है. अंकित 25 फरवरी को शाम 5 बजे के करीब ऑफिस से लौटे थे और अपने दोस्तों के साथ बाहर गए थे. उनके साथ उनका दोस्त कालू भी था और कुछ और लोग थे, जो कि पुलिया के एक तरफ खड़े थे. तभी दूसरी तरफ से पथ-राव हुआ और अंकित सामने ही खड़े थे. वहां के लोगों ने पुलि-स को बताया कि अंकित को प-त्थर लगी और वह गि-र गए. इसके बाद दूसरी तरफ से तीन-चार लोग आए और उन्होंने अंकित को काबू में कर लिया. इसके बाद अंकित को एक घर के अंदर ले जाया गया। सूत्र ने बताया, ‘हैरानी की बात है कि उन्होंने अंकित के अलावा किसी को टच नहीं किया.’

जांचकर्ताओं ने कहा कि मामले की जांच अब टार्गेट कीलिंग को देखकर भी की जा रही है। उन्होंने कहा, ‘सच्चाई यह है कि अंकित का अप-हर-ण हुआ और दूर ले जाया गया. उन्हें घ-टना-स्थल पर नहीं मा-रा गया जिसने संदे-ह पै-दा किया है. जब घट-नाक्र-म सामने आया तभी इस बात को बल मिला है. श-व जिस हा-लत में मिला है उससे प्रति-शो-ध स्पष्ट झलकता है. भीड़ द्वारा किसी व्यक्ति को इस तरह नहीं मा-रा जाता.’

Leave a Reply

Your email address will not be published.