Categories
News

BREAKING: कोरोना के नये स्‍ट्रेन से आधी दुनिया में लाॅकडाउन, भारत में आपात बैठक…

खबरें

ब्रिटेन की राजधानी लंदन समेत पूर्वी इंग्‍लैंड में कोरोना वायरस का नया प्रकार (स्‍ट्रेन) ‘बेकाबू’ हो गया है। लंदन की इस बेहद खराब हालत को देखते हुए यूरोप समेत दुनिया के कई देशों ने ब्रिटेन से उड़ानों पर प्रतिबंध लगा द‍िया है। कोरोना का यह नया स्‍ट्रेन न केवल ब्रिटेन बल्कि इटली, नीदरलैंड, डेनमार्क, ऑ‍स्‍ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका में भी फैल गया है। इसी गंभीर खतरे को देखते हुए भारत सरकार ने भी सोमवार को आपात बैठक बुलाई है।

ब्रिटेन में तेजी से फैल रहा कोरोना वायरस का यह नया स्‍ट्रेन पूर्व के वायरस के मुकाबले 70 प्रतिशत अधिक तेजी से फैलता है। भारत सरकार को डर है कि अगर यह वायरस देश में आया तो बहुत तेजी से कोरोना वायरस के मामले बढ़ सकते हैं। भारत सरकार के एक सूत्र ने बताया, ‘ब्रिटेन में कोरोना वायरस के नए प्रकार के चलते इस पर चर्चा के लिए स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक (डीजीएचएस) की अध्यक्षता में सोमवार को संयुक्त निगरानी समूह की बैठक होगी। भारत में विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रतिनिधि डॉ रॉडरिको एच ऑफ्रिन भी बैठक में शामिल हो सकते हैं जोकि जेएमजी के सदस्य हैं।’

इससे पहले ब्रिटेन की सरकार द्वारा वायरस के नए प्रकार के ‘नियत्रंण से बाहर’ होने की चेतावनी जारी करने के बाद यूरोपीय यूनियन के कई देशों ने ब्रिटेन से आने वाली उड़ानों पर रोक लगा दी है। वहीं, ब्रिटेन ने भी रविवार से सख्त लॉकडाउन लागू कर दिया है। माना जा रहा है कि कोरोना वायरस का नया प्रकार ब्रिटेन में संक्रमण को तेजी से फैलाने के लिए जिम्मेदार है। उधर, यूरोपीय संघ भी सोमवार को बैठक कर रहा है।

पहले के मुकाबले ज्‍यादा घातक नहीं है नया स्‍ट्रेन
उधर, ब्रिटेन के स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारियों ने कहा कि इस बात के कोई साक्ष्‍य नहीं हैं कि यह वायरस ज्‍यादा घातक या वैक्‍सीन के खिलाफ अलग प्रतिक्रिया देगा लेकिन यह 70 फीसदी ज्‍यादा संक्रमण योग्‍य पाया गया है। नीदरलैंड और बेल्जियम ने ब्रिटेन से आने वाली उड़ानों पर रोक लगा दी है, जबकि जर्मनी उड़ानों की संख्या सीमित करने पर विचार कर रहा है ताकि इसका प्रकोप समूचे यूरोपीय महाद्वीप में नहीं फैले।

वहीं, नीदरलैंड ने ब्रिटेन से आने-जाने वाली उड़ानों पर कम से कम इस साल के अंत तक रोक लगा दी है और बेल्जियम ने मध्यरात्रि से ब्रिटेन से आने-जाने वाली उड़ानों पर 24 घंटे के लिए रोक लगाई है। बेल्जियम ने ब्रिटेन को जोड़ने वाली रेल सेवा भी स्थगित कर दी है। जर्मनी के अधिकारियों ने बताया कि ब्रिटेन से आने वाले विमानों को लेकर वे ‘गंभीर विकल्पों’ पर विचार कर रहे हैं लेकिन अभी कोई फैसला नहीं किया है।

ब्रिटेन की नेशनल हेल्थ सर्विस (एनएचएस) ने बताया है कि इन दोनों को वैक्सीन के कारण एलर्जिक रिएक्शन हुआ है। ऐसे में ब्रिटिश स्वास्थ्य विभाग ने चेतावनी जारी करते हुए कहा कि ऐसे लोग जिन्हें किसी दवा, खाना या वैक्सीन से एलर्जी है वह फाइजर की कोरोना वैक्सीन का टीका न लगवाएं। ब्रिटेन के मेडिसिन्स एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेगुलेटरी एजेंसी (एमएचआरए) ने सभी 50 एनएचएस ट्रस्टों को एहतियाती सलाह दी है कि जिस भी व्यक्ति को एलर्जी हो उन्हें यह वैक्सीन न दी जाए।

ब्रिटिश मेडिसिन्स एंड हेल्थकेयर प्रोडक्ट्स रेगुलेटरी एजेंसी के अनुसार, ब्रिटेन में गंभीर एलर्जी का इतिहास रखने वाले लोगों की सही संख्या का कोई आंकड़ा नहीं है। माना जा रहा है कि इस देश में लगभग 70 लाख लोग ऐसे हैं जिन्हें भोजन, दवा या वैक्सीन से एलर्जी हो सकती है। ऐसे में अगर इन लोगों को फाइजर की वैक्सीन लगाई जाती है तो उसके गंभीर दुष्परिणाम देखने को मिल सकते हैं।

इंग्लैंड में एनएचएस के राष्ट्रीय चिकित्सा निदेशक प्रोफेसर स्टीफन पॉविस ने कहा कि यह सलाह एहतियाती आधार पर दी गई है। इससे किसी को भी घबराने की जरूरत नहीं है। जिन दो लोगों के ऊपर इस वैक्सीन का उल्टा असर पड़ा है वे भी ठीक हो रहे हैं। बताया जा रहा है कि ये दोनों ही स्वास्थ्यकर्मी Anaphylactoid Reactions के शिकार हुए थे।

दो लोगों को फाइजर की वैक्सीन से एलर्जी होने के बावजूद ब्रिटिश सरकार प्रतिदिन 5000 से 7000 लोगों को टीका लगा रही है। फाइजर कोरोना वैक्सीन की 8 लाख से ज्यादा डोज को पूरे ब्रिटेन के अस्पतालों में पहुंचा दिया गया है। फाइजर के एक प्रवक्ता ने कहा कि हमें COVID-19 BNT162b2 वैक्सीन के कारण दो लोगों में एलर्जी होने की रिपोर्ट मिली है। इस मामले को लेकर फाइजर और बायोएनटेक जांच में एमएचआरए का साथ दे रहे हैं।

फाइजर कंपनी की भारतीय इकाई ने भारतीय औषधि महानियंत्रक (डीजीसीआई) से फाइजर/बायोनटेक वैक्सीन के आपात इस्तेमाल की अनुमति मांगी है। ब्रिटेन में टीके को मंजूरी मिलने के बाद फाइजर और बायोनटेक को आगामी दिनों में अन्य देशों में भी इस टीके को मंजूरी मिलने की उम्मीद है। भारत में ऐसा कोई भी सरकारी आंकड़ा नहीं है जिससे पता चल पाए कि कौन से मरीज में पहले एलर्जी के मामले सामने आए हैं। ऐसे में अगर किसी ऐसे व्यक्ति को वैक्सीन दिया जाता है जिसमें एलर्जी की संभावना ज्यादा है तो इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं।

ब्रिटेन के कदम के चलते लिए गए फैसले
नीदरलैंड ने कहा कि वह ब्रिटेन से वायरस के इस नए स्ट्रेन को आने से रोकने के लिए यूरोपीय संघ के अन्य देशों के साथ विभिन्न संभावनाओं पर चर्चा करेगा। यूरोपीय संघ के सदस्य तीनों देशों की सरकारों ने कहा कि वे ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के लंदन और आसपास के इलाकों के लिए शनिवार को उठाए गए सख्त कदम के मद्देनजर यह फैसला कर रही हैं।

तेजी से फैल रहा नया स्ट्रेन’
इससे पहले पीएम जॉनसन ने श्रेणी-4 के सख्त प्रतिबंधों को तत्काल प्रभाव से लागू करते हुए कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि कोरोना वायरस का एक नया स्ट्रेन सामने आया है, जो पूर्व के वायरस के मुकाबले 70 प्रतिशत अधिक तेजी से फैलता है और लंदन और दक्षिण इंग्लैंड में तेजी से संक्रमण फैला सकता है। संक्रमण की दर बढ़ने को लेकर रविवार से सख्त पाबंदियों के साथ लॉकडाउन लागू किया गया था जिसके चलते लाखों लोग घरों के अंदर ही रहने को मजबूर हो गए हैं। गैर-जरूरी वस्तुओं की दुकानें और प्रतिष्ठान भी बंद कर दिए गए हैं। बेल्जियम के प्रधानमंत्री अलेक्सेंडर डी क्रू ने रविवार को कहा कि वह एहतियातन 24 घंटे का उड़ान प्रतिबंध आदेश जारी कर रहे हैं ,जो मध्यरात्रि से प्रभावी होगा।