Categories
News

दुनिया की सबसे लंबी अटल रोहतांग टनल बनकर तैयार! सितंबर में मोदी जी करेंगे उद्घाटन,देखे विचित्र तस्वीरे..

हिंदी खबर

आप ट्रेन में तो जरुर बैठे होगे और आपने टनल भी जरुर देखी होगी ! लेकिन अब तो शहरों में सडको पर भी टनल बनाई गयी है और आपने बस में सफर करते हुए देखी भी  होगी ! पर आपने ज्यादा लम्बी  टनल कंही नही देखी  होगी  !  लेकिन अब दुनिया की सबसे लम्बी टनल बना दी गयी है ! और जिसे देखने के लिए आप उत्सुक भी होगे ! आपका ये सपना बहुत ही जल्द पूरा होने वाला है

दुनिया की सबसे लम्बी टनल भारत में बनाई गयी है ! प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी सितम्बर के अंत तक इस टनल का उद्घाटन करेंगे ! मनाली से लेह – लद्दाख की दुरी लगभग 46 किलोमीटर कम हो जाएगी ! इस टनल का नाम पर्व प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर ‘ अटल रोहतांक टनल ‘ रखा गया है ! इस टनल को बनाने में दस साल लग गये है !

यह दुनिया की सबसे लम्बी और ऊँची टनल है !यह टनल लगभग 8.8 किलोमीटर लम्बी है ! और 10 मीटर चौड़ी रोड टनल है ! 10,171 फीट की ऊँचाई पर बनी इस अटल रोहतांक टनल को रोहतांक पास से जोड़कर बनाया गया है ! इस टनल के अंदर 80 किलो मीटर प्रति घंटे की रफ्तार से कोई भी वहन जा सकेगा ! मनाली से लेह तक जाने के लिए 46 किलोमीटर दुरी कम होगयी है और आप सिर्फ 10 मिनट में यह दुरी तय कर पाएंगे ! इस टनल को बहुत ही खास तरीके से बनाया गया है जिसे इस टनल के अंदर से एक साथ 3000 कारे और 1500 ट्रक आसानी से गुजर सकते है ! लद्दाख में तैनात भारतीय फौजियों को इस टनल से बहुत फायदा होने वाला है ! जोजिला पास ही नही अब इस नये मार्ग से भी सामान की सप्लाई फौजियों तक हो जाएगी ! और सर्दियों में रसद और हथियार की सप्लाई भी करना भी आसान हो जायेगा !

इस टनल के अंदर अत्याधुनिक ऑस्ट्रेलियन टनलिंग मैथड का उपयोग किया गया है ! ऑस्ट्रेलियन तकनीक पर आधारित वेंटीलेशन सिस्टम भी है ! लगभग 4 करोड़ की लागत इसे बनाने में आई है ! इस टनल के अंदर CCTV लगाये गये है जो स्पीड और हादसे नियन्त्रण करने में सहायक होगे ! 200 किलोमीटर की दुरी पर टनल के अंदर एक फायर हाईड्रेट की व्यवस्था की गयी है ! ताकि आग लगने की स्तिथि में मदद मिल सके ! इस टनल पर बर्फ और हिमस्खलन का कोई बुरा प्रभाव न पड़ सके इसके लिए DRDO ने इस टनल का डिज़ाइन  बनाने में मदद की है ! यह टनल हिमाचल प्रदेश के लाहौल स्पिति में भी यातायात को आसान कर  देगी ! और कुल्लू मनाली से लाहौल स्पीती को भी जोड़ेगी !

28 जून 2010 को इस टनल को बनाने का काम शुरू किया गया था ! इस टनल का आकार घोड़े की नाल के जैसा बनाया गया है ! इस टनल को बोर्डर रोड आर्गेनाइजेशन के इंजीनियरों और वर्करो ने बहुत मेहनत  करके बनाया है !  सर्दियों में यंहा पर तापमान 30डिग्री तक हो जाता है ! और ऐसे में काम करना बहुत ही मुश्किल  होता है ! गर्मियों में रोजाना यंहा पर 5 मीटर  तक खुदाई होती थी लेकिन सर्दियों में ये कम होकर आधा मीटर हो जाती थी ! 8लाख क्यूबिक मीटर पत्थर और मिटटी इस टनल को बनाने की दौरान निकले गये !