Categories
News

इंदौर: दिल दहला देने वाली घट’ना आई सामने! मजाक बना बच्ची की मौ’त का कारण, गले में फंदा डाल से’ल्फी…….

डेली न्यूज़

इंदौर में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। 12 वर्षीय बच्ची गले में फंदा डाल कर से’ल्फी ले रही थी। इस दौरान उसका बैलेंस बिगड़ गया और जान चली गई है। लेकिन हादसे के बाद कई सवाल उठ रहे हैं।

हाइलाइट्स:
इंदौर में गले में फंदा डाल कर से’ल्फी ले रही थी बच्ची
कुर्सी का बैलेंस बि’गड़ा और बच्ची की जान चली गई
पोस्ट’मार्टम के दौरान बच्ची के कप’ड़ों से मिला है एक नोट
नोट में लिखा है सॉरी-जी, साथ ही माही का है जिक्र
वक़्त नहीं है?

इंदौर
एमपी के इंदौर में से’ल्फी के चक्कर में एक बच्ची की जान चली गई है। 7वीं की छा’त्रा गले में फं’दा डाल कर से’ल्फी ले रही थी। फंदा डाले हुए से’ल्फी वह किसी को भेज रही थी। इस दौ’रान कुर्सी का बैलेंस बिगड़ गया और फंदा कस गया। इस हा’दसे में बच्ची की जा’न चली गई है। अब पुलि’स मामले की जांच में जुट गई है।


मामला इंदौर के एरो’ड्रम थाना क्षेत्र का है, जहां पुलिस को सूच’ना मिली थी कि मां वैष्णो देवी नगर में 12 वर्षीय बच्ची ने फां’सी लगाई है। मौके पर पहुंची पुलि’स ने जब जांच की तो मा’मला कुछ और ही निकला है। ब’च्ची ने खेल-खेल में दु’पट्टा गले में डाल कर से’ल्फी ले रही थी। इस दौरान संतु’लन बिगड़ने से वह गिर पड़ी और दु’पट्टा गले में फं’स गया।

बच्ची का नाम आयुषी सोलं’की बताया जा रहा है, जिसकी उम्र मात्र 12 वर्ष है। घट’ना के वक्त बच्ची घर में अकेली थी। वहीं, मामले की जान’कारी मिलने के बाद उसके परि’जन घर पहुंचे और तत्का’ल पुलिस को इसकी सूच’ना दी। पुलिस ने मर्ग काय’म कर शव को पो’स्ट’मार्टम के लिए जिला अस्प’ताल पहुंचाया है। वहीं, मोबा’इल भी पुलिस ने ज’प्त किया है। फिल’हाल पुलिस इस बात की जांच कर रही है कि बच्ची ने फांसी लगाई है या खेल खेल में फां’सी लगी है।

वहीं, बच्ची के मां-पिता सश’स्त्र बल में हैं। परिजनों ने पुलिस को बताया कि आयु’षी का श’व फंदे से लट’का था और मोबाइल नीचे गिरा हुआ था। मोबा’इल की जांच की गई तो उसमें फंदे के साथ से’ल्फी थी। बच्ची ने 2 दुपट्टों से फंदा तैया’र किया था। पोस्ट’मार्टम के दौरा’न उसके कपड़ों से डॉक्ट’रों को एक नोट मिला है। उसमें लिखा है कि सॉ’री माही, मुझे माफ कर देना, जो गल’तफ’हमियां हुईं, उसे भूल जाना। माही उसे तुम गलत सम’झ रही हो। यकीन नहीं है तो मुझे 6 बजे आकर देख लेना। इसके साथ ही बाएं हाथ पर सॉ’री-जी लिखा हुआ है।

जांच अधि’कारी मोहन सिंह ठाकुर शुरु’आती जांच के बाद इसे हाद’सा ही करार दे रहे हैं। लेकिन सवाल है कि जब हादसा है तो बच्ची के कप’ड़ों से सुसा’इड नोट क्यों मिले हैं। पुलिस अब तमाम बिंदु’ओं पर जांच शुरू कर दी है। साथ ही उस माही की भी तला’श कर रही है।