Categories
News

शा’दी से पह’ले ए’क ही बिस्त’र प’र ले’टे दू’ल्हा दुल्ह’न, व’जह जा’न उ’ड़ जा’एंगे..

हिंदी खबर

इ’न दि’नों ह’र ज’गह शा’दी का मा’होल हैं. जि’स ग’ली मो’हल्ले से गु’जरो व’हां शहना’इयों की गूं’ज सु’नाई दे’ती हैं. ह’र व्य’क्ति का सप’ना हो’ता हैं कि उस’की शा’दी ब’ड़े धू’म धा’म से हो. अप’ने इ’स स’पने को पू’रा क’रने के लि’ए वो ला’खो से ले’कर क’रोड़ों रू’पए त’क ख’र्च क’र दे’ता हैं. ब’ड़ा शा’दी हा’ल, 56 तर’ह के प’कवान, महं’गा डे’कोरेशन, डी’जे, बा’जे, मेह’मानों को गि’फ्ट्स औ’र भी ना जा’ने क्या क्या. इ’न स’भी ची’जों में ह’म पा’नी की तर’ह पै’सा ब’हाते हैं.आ’ज क’ल शा’दी को वि’शाल औ’र आ’लिशान ब’नाने का ट्रें’ड च’ल र’हा हैं. य’हाँ ब’स ए’क दि’न की झू’ठी शा’न दिखा’ने के लि’ए लो’ग अ’पनी जिंद’गी भ’र की कमा’ई यूं ही उ’ड़ा दे’ते हैं. ले’किन क्या आ’प ने क’भी सो’चा हैं कि अप’नी जिंद’गी के इ’स न’ए मो’ड़ प’र आप’को थो’ड़ा बहु’त समा’ज के लि’ए भी कु’छ कर’ना चा’हिए. आ’म तौ’र प’र दे’खा जा’ए तो इ’स बा’रे में को’ई न’हीं सोच’ता हैं. उ’न्हें ब’स अप’नी दि’खावे वा’ली शा’न की पर’वाह हो’ती हैं.

लेकि’न वो कह’ते हैं दुनि’यां में ह’र इं’सान ए’क जै’सा न’हीं हो’ता हैं. य’हाँ कु’छ ने’क दि’ल बं’दे भी र’हते हैं जो समा’ज के बा’रे में सो’चते हैं. आ’ज ह’म आ’पको ए’क ऐ’से ही ने’क दि’ल औ’र स’माज के प्र’ति जाग’रूक दु’ल्हे से मि’लाने जा र’हे हैं जि’सने अप’नी शा’दी के दि’न ऐ’सा का’म क’र दि’या जि’से दे’ख आ’प स’भी का सी’ना ग’र्व से फू’ल जा’एगा.