Categories
News

ए’क पा’न ब’ना स’कता है म’र्दों को इत’ना श’क्तिवर्धक, प’त्नी हो जा’एंगी खु’श, रो’ज क’रेंगी ये का’म….

हिंदी खबर

 कि’सी ने स’ही क’हा है शौ’क ब’ड़ी ची’ज है। ह’मारे दे’श में भी शौ’कीन लो’गों की क’मी न’हीं है। इ’नमें से ए’क पा’न खा’ने के बेह’द शौ’कीन लो’ग भी आ’ते हैं जो त’रह-त’रह के पा’न के दीवा’ने हो’ते हैं। ह’मारे दे’श भार’त में पा’न खा’ने वा’ले लो’गों की सं’ख्या क’ई ज्या’दा है। व’हीं य’हां पा’न खा’ने का चल’न स’दियों से चल’ता आ र’हा है। 

अ’धिकतर लो’ग पा’न खा’ना इस’लिए प’संद कर’ते हैं क्यों’कि इ’सके क’ई सा’रे फा’यदे भी हैं। जी हां, पा’न खा’ने के बा’द खा’ना प’च जा’ता है, मू’ड फ्रे’श हो जा’ता है औ’र क’ई लो’गों ने य’ह भी दा’वा कि’या है कि इस’से स’र द’र्द भी ठी’क हो’ता जा’ता है।

ऐ’से में य’ह सि’र्फ पा’न के प’त्तों का क’माल न’हीं है ब’ल्कि इ’सके अं’दर भ’रे हु’ए म’साले का भी पू’रा योग’दान हो’ता है। व’हीं क्या आ’पको प’ता है कि पा’न खा’ने के औ’र भी क’ई ला’भ हो’ते हैं। क्या आप’को जा’नते हैं कि पा’न आ’पकी से’क्स लाइ’फ को बेहत’रीन ब’ना स’कता है? न’हीं? तो फि’र चलि’ए आ’ज ह’म आप’को य’ह बता’एंगे कि पा’न आखि’र कै’से कि’सी व्य’क्ति की से’क्स लाइ’फ को प्रभा’वित कर’ता है।

ह’म प’हले आप’को य’ह सु’निश्चित क’र दें कि य’हां ह’म न’शे कर’ने वा’ले पा’न का जि’क्र न’हीं क’र र’हे ब’ल्कि सा’दा-मी’ठा पा’न के बा’रे में ब’ता र’हे हैं। जि’से खा’कर क’ई तरी’कों से ए’क इं’सान अप’नी से’क्स ला’इफ को इंटरे’स्टिंग ब’ना सक’ता है।

बीट’ल ली’फ या फि’र बी’टल न’ट से जो पा’न तै’यार हो’ता है, उ’से खा’ने के बा’द इं’सान का’फी फ्रे’श औ’र एक्सा’इटेड मह’सूस कर’ता।

पा’न खा’ने से हमा’रे श’रीर में ना’इट्रिक ऑक्सा’इ का स्त’र ते’जी से ब’ढ़ने लग’ता है। ना’इट्रिक ऑ’क्साइड लड़’कों की श’रीर में क्लिटो’रिस औ’र पीनि’स में ब्ल’ड फ्लो को ब’ढ़ा दे’ता है जि’ससे से ल’ड़कों में इ’रेक्शन ब’ढ़ जा’ता है।

बी’टल ली’फ खा’ने से आप’की ब्रे’न में डो’पामाइन औ’र इ’पिनेफ्राइन जै’से हॉ’र्मोन्स का स्त’र का’फी ब’ढ़ जा’ता है। ज’हां ए’क तर’फ आ’पकी शरी’र में डोपा’माइन प्ले’जर हा’र्मोन की त’रह का’म कर’ता है तो व’हीं इपिने’फ्राइन आ’पके ब्रे’न को रिलै’क्स फी’ल करवा’ता है।

व’हीं पा’न त’नाव को भी दू’र कर’ने में प्रभा’वशाली सा’बित हो’ता है। य’दि आप’को अधि’क थका’न ल’ग र’ही है या फि’र अ’पना मू’ड फ्रे’श क’रना है तो बि’ना दे’र कि’ए हु’ए पा’न खा ली’जिए। ऐ’सा इस’लिए क्यों’कि पा’न आ’पके ब्रे’न में है’प्पी हा’र्मोन्स को ब’ढ़ाने में मद’द कर’ता है जि’ससे त’नाव क’म हो जा’ता है।

मी’ठा औ’र सा’दा पा’न ग’ले में हो र’हो र’हे ह’र स’मस्याओं को भी दू’र क’रने में बे’हद फा’यदेमंद है। जै’से कि ग’ले में खरा’श हो’ना, जल’न या फि’र द’र्द जै’से दि’क्कतों से छुट’कारा पा’ने के लि’ए पा’न आ’पकी म’दद क’र स’कता है। ब’ता दें कि पा’न की ठं’डी ता’सीर औ’र गु’लकंद की खूबि’यों की वज’ह से आ’पके ग’ले को रा’हत मिल’ती है।