Categories
News

भाजपा के लियें खत्म हुयी सिंधिया की भूमिका? भाजपा ने दिखाया सिंधिया को बाहर……….

खबरें

ज्योतिरादित्य सिंधिया क्या मध्य प्रदेश की रा’जनी’ति में अपनी ऐ’तिहासि’क भू’मि’का निभा चुके? इसका जवाब समय देगा पर ऐसा लग रहा है कि भारतीय जनता पा’र्टी के लिए उनकी भू’मिका ख’त्म हो गई है। उन्होंने कांग्रेस पार्टी में ब’गाव’त करा कर कां’ग्रेस की चुनी हुई स’रका’र गिरा दी और भा’ज’पा की स’रका’र बनवा दी। बदले में उनको रा’ज्यस’भा की सीट मिल गई। अब भाजपा को उनकी खास ज’रूरत न’हीं म’हसू’स हो रही है। अब उनके प्रति नि’ष्ठावा’न रहे वि’धा’यक भी भा’जपा की टिक’ट पर चुना’व लड़ रहे हैं और नहीं कहा जा सकता है कि चुनाव जीतने के बाद उनकी कितनी निष्ठा सिं’धिया के साथ रहेगी। यह भी पक्के तौ’र पर नहीं कहा जा रहा है कि उनके समर्थक और कांग्रेस से इ’स्तीफा देने वाले 22 वि’धाय’कों में से कितनों की वि’धानस’भा में वा’पसी हो रही है।

बहरहाल, राज्य में 28 सीटों पर हो रहे उपचुनाव में भाजपा अपने दम पर ल’ड़ रही है और सिंधिया स’मर्थकों को टि’कट देने या उनके अ’सर वाले इला’के में चुनाव होने के बा’वजू’द भाजपा उनके सहारे चुनाव नहीं ल’ड़ रही है। प्रदेश का पूरा भाजपा नेतृत्व चुनाव में लगा हुआ है और ध’र्मेंद्र प्रधान सहित चार केंद्रीय मंत्री उपचुनाव की कमान संभाल रहे हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान खुद मे’हनत कर रहे हैं। चुना’व प्रचार के लिए भाजपा ने स्टार प्र’चारकों की जो सूची जारी की उसमें सिंधिया को दसवें स्थान पर रखा गया। कांग्रेस ने इसे लेकर तं’ज किया। पार्टी नेताओं ने कहा कि कांग्रेस में सिं’धि’या टॉप तीन में थे। क’मलनाथ और दिग्विजय सिंह के साथ उनकी फोटो लगती थी और भा’जपा में दसवें नंबर के नेता हैं। इसी पर भाजपा के एक नेता की टिप्पणी थी कि उन्होंने अपनी भूमिका निभा दी है। अब यह देखना दिलचस्प होगा कि उन्हें केंद्रीय मंत्रिमंडल में जगह मिलती है या नहीं और मिलती है तो कैसी जगह मिलती है!