Categories
Other

श-ही-द कर्नल संतोष बाबू की अपने पिता से हुई थी आ-खि-री बात, कहा था- टीवी पर जो दिख रहा…

चीन और भारत के बीच लद्दाख बार्डर के पास गलवान घाटी पर काफी दिनो से त-ना-त-नी चल रही है. जिसको लेकर दोनो देशो के बीच कई दौर की बैठक हो चुकि है. लेकिन चीन अपने दोगले रवैये से बाज़ नही आ रहा है. चीन के साथ बातचीत करने से भी कोई फायदा नही हुआ है. क्योकि चीन ने जो ह-र-क-त की है वो ब-र्दा-शत करने लायक नही है. इस झ-ड़-प में हमारे सैनिकों की भी जान गयी.

कर्नल संतोष बाबू के पिता उपेंद्र अपने बेटे को याद कर भावुक हो जाते हैं। लेकिन उन्हें इस बात का गर्व भी है कि बेटा देश के लिए श-ही-द हुआ है। उपेंद्र याद करते हैं कि 14 जून को उनकी आ-खि-री बार बेटे से बात हुई थी। उन्होंने बेटे से बॉर्डर का हाल जानना चाहा क्योंकि उस वक्त तक खबरों में काफी कुछ चल रहा था। इसपर संतोष ने उन्हें जवाब दिया कि आप मुझसे उस बारे में मत पूछिए। मैं यह आपको अभी नहीं बता सकता, मेरे आने पर सब बताऊंगा। बस यह है कि जो आप टीवी पर सुन रहे हैं और जो यहां की असलियत है, उन दोनों में काफी बड़ा अंतर है।

कर्नल संतोष की पत्नी संतोषी अपनी 8 साल की बेटी और 3 साल के बेटे के साथ दिल्ली में रहती हैं। संतोषी को ही सबसे पहले संतोष के शहीद होने का पता चला था। वहीं संतोष की मां जो हैदराबाद में रहती हैं वह चाहती थीं कि बेटे का ट्रांसफर किसी तरह हैदराबाद में ही हो जाए।लद्दाख में चीनी हमले में शहीद हुए कर्नल संतोष बाबू ने अपने पिता और मां से बात करते वक्त आ-खि-री बार यह बात कही थी। उस वक्त तक पिता और बेटे दोनों को ही अंदाजा नहीं होगा कि अब बाबू कभी उस हा-ल=त में घर नहीं लौट पाएंगे कि दोनों इस या किसी भी मुद्दे पर बात कर सकें।