Categories
bollywood

आमि’र खा’न की ऑन’स्क्रीन बे’टी ने का’स्टिंग का’उच पर किया बड़ा खुला’सा, बोलीं से’क्स ही काम पाने का तरी’का…..

बॉलीवुड ब्रेकिंग

Fatima Sana Sheikh: आमि’र खा’न (Aamir Khan) की सुपर’हिट फि’ल्म ‘दंगल’ (Dangal) से डे’ब्यू करने वाली ए’क्ट्रेस फा’तिमा सना शे’ख (Fatima Sana Shaikh) को आज हर कोई जा’नता है। उन्होंने बिना किसी गॉड’फादर के इंड’स्ट्री में अपने टैलें’ट के बल पर ज’गह बना’ई है।

मुं’बई। आ’मिर खा’न (Aamir Khan) की सुपर’हिट फि’ल्म ‘दंगल’ (Dangal) से डे’ब्यू करने वाली ए’क्ट्रेस फा’तिमा स’ना शे’ख (Fatima Sana Shaikh) को आ’ज हर कोई जान’ता है। उन्हों’ने बिना किसी गॉ’डफा’दर के इंड’स्ट्री में अपने टै’लेंट के बल पर जग’ह बनाई है। हाल ही में एक इंटर’व्यू के दौरा’न उन्हो’नें खुद से जुड़ी कई पर्स’नल बातें शे’यर की। साथ ही का’स्टिंग का’उच (Casting Couch) पर भी कई बड़े खुला’से किए है।

फाति’मा सना शे’ख ने बता’या कि उन्हो’नें अपने करि’यर में कई रिजे’क्शन का सा’मना किया है, साथ ही उन्हो’नें ये भी ब’ताया कि कि’स तरह उन्हें कहा किया कि वो ए’क्ट्रेस बनने के ला’यक नहीं है क्यों’कि वो दीपि’का पादु’कोण और ऐश्व’र्या राय की तरह नहीं दिख’ती हैं।

‘कई लोगों ने मनो’बल गि’राने की को’शिश की’

उन्हों’ने एक इंट’रव्यू के दौ’रान बताया, ”मुझे कई बार ये सुन’ना पड़ा कि तुम कभी हीरो’इन नहीं बन सको’गी। तुम दीपि’का पादु’कोण या ऐश्व’र्या राय की तरह नहीं दिख’ती हो। कैसे हीरो’इन बनोगी। कई लोग आप’का मनो’बल गिरा’ने की को’शिश करते रहते हैं। लेकि’न आज जब मैं मुड़’कर देख’ती हूं तो सो’चती हूं कि ठीक है ये लोग खूब’सूरती को इस पैमाने से देखते हैं कि एक ऐसी दिख’ने वाली ल’ड़की ही हीरो’इन बन सकती है। मैं इनके सां’चे में फिट नहीं बै’ठती, मैं दूसरे सां’चे लिए हूं। लेकिन अब कई अव’सर हैं। मेरे जैसे लोगों के लिए भी फि’ल्में बन’ती हैं, जो सुप’रमॉ’डल्स की तरह नहीं ब’ल्कि नॉर्म’ल और दिख’ने में औ’सत हैं।”

fatima sana shaikh

‘सिर्फ से’क्स ही काम पाने का तरी’का है’

उन्हों’ने अपने करि’यर के शुरु’आती दौर के बारे में बता’या, ”मैंने का’स्टिंग काउ’च का भी साम’ना किया है। मुझ’से कहा गया कि काम पा’ने का सि’र्फ एक ही तरी’का है से’क्स… तो ये मेरे सा’थ भी हुआ है। मु’झे भी का’म से हाथ धो’ना पड़ा है। लेकि’न मुझे ल’गता है कि इस इंड’स्ट्री के अ’लावा, अन्य ज’गहों पर भी लोग सेक्सि’ज्म की वजह से कई तरीके के संघ’र्षों का साम’ना करते हैं।

तीन सा’ल की उ’म्र में हुआ था उत्पी’ड़न

उन्हों’ने बता’या कि ”मैं जब ती’न सा’ल की थी तो मुझे उत्पी’ड़न का सा’मना कर’ना पड़ा था। तो आप सम’झ सक’ते हैं कि सेक्सि’ज्म कितनी गह’राई से समा’ज में जग’ह बना चुका है।”