Categories
News

स्टेशन तोड़’कर मेट्रो निक’ली बाहर, मछ’ली की ‘पूंछ’ ने रोका बड़ा हा’दसा

ब्रेकिंग न्यूज़

चम’त्कार में विश्वा’स करते हैं?


अगर नहीं भी करते तो कोई बात नहीं। लेकिन नीद’रलैंड के शहर रोटे’रडैम में एक मेट्रो रेल दुर्घट’नाग्रस्त होने से ऐसे बची कि लोग ‘चम’त्कार को नम’स्कार’ करने लगे! घटना की तस्वी’रें सोशल मीडि’या पर छा गई हैं, जिन्हें देखकर आप समझ जाएंगे कि बाल-बाल बचना किसे कहते हैं। दरअ’सल, यह रोटेर’डैम शहर में मेट्रो का आखिरी स्टॉप था, जो पानी के ऊपर बना था। स्टे’शन पानी के ऊपर था तो जहां वह खत्म हो रहा था वहां इंजी’नियर्स ने खूब’सूरती के लिए ‘व्हेल’ मछ’ली की दो पूंछ बना रखी थीं, जिनमें से एक ने मेट्रो को ज’मीन पर गिरने से बचा लिया।

हवा से 10 मीटर ऊपर लटकी मेट्रो!

जब घटना की जान’कारी स्था’नीय पुलिस और बचाव दल को हुई तो वह तुरंत मदद के लिए पहुंचे। इसी दौरा’न वहां एक फोटो’ग्राफर, ब्लॉगर Joey Bremer भी पहुंचे। उन्होंने कुछ शान’दार तस्वी’रें क्लि’क की और उन्होंने सोश’ल मीडिया पर शेयर कर दिया। बता दें, मेट्रो जमीन से 10 मीटर ऊपर हवा में लटकी थी। हादसे में ट्रेन का अंडर’कैरेज बुरी तरह से क्षति’ग्रस्‍त हुआ और कुछ खिड़’कियां भी टूट गईं।

इस हादसे में नहीं हुआ कोई घायल

रिपो’र्ट के मुता’बिक, यह हादसा सोमवार की अंधेरी सुबह में हुआ। हालां’कि, उस दौरा’न ट्रेन में कोई पैसेंजर नहीं था। ट्रेन फाइ’नल स्टॉप पर नहीं रुक पाई और बैरि’यरों को तोड़ते हुए ‘व्हेल’ की पूंछ (कलाकृति) पर अटक गई। कथित तौर पर ड्रा’इवर खुद ही ट्रेन से बाहर निकल आया। उसे हाद’से में कोई चोट नहीं आई, लेकिन एहति’यातन चेकअप के लिए उसे अस्प’ताल ले जाया गया।

साल 2002 में बनाई गई थी ये पूंछ

बता’या गया कि ‘व्हेल’ की ये पूंछ ‘पॉलि’एस्टर’ की बनी हैं, जिसको डच आर्कि’टेक्ट Maarten Struijs ने डिजा’इन किया था। साल 2002 में इसे उस जगह लगाया गया, जहां मेट्रो खत्म होती है। ऐसा इस’लिए किया गया ताकि ये जगह खूब’सूरत दिखाई दे। फिल’हाल, मामले की जांच चल रही है कि यह हाद’सा क्यों और कैसे हुआ।