Categories
धर्म

Chanakya Niti: चाणक्य के अनु’सार, इन चार मामलों में पुरुषों से हमेसा आगे होती हैं महि’लाएं

धार्मिक समाचार

आचार्य चाण’क्य एक महान नीति-नि’र्माता थे। उन्हें कूट’नीति और राज’नीति की गहरी समझ थी। उन्होंने अर्थ’शास्त्र जैसे महान ग्रंथ की रचना की। उन्हें कौटि’ल्य के नाम से भी जाना जाता था। उन्होंने नीति’शास्त्र में मनु’ष्य के जीवन से संबं’धित बहुत सी महत्व’पूर्ण बातें बताई हैं जो व्यक्ति को जीवन में सफल बनने के लिए प्रेरि’त करती हैं। चाणक्य नीति के एक श्लो’क में आचार्य चाण’क्य ने महि’लाओं को चार मामले में पुरु’षों से आगे बताया है।

Chanakya Success Mantra

दो गुणा अधिक होती है भूख

आचा’र्य चाण’क्य के अनु’सार महि’लाएं खाने के मामले में पुरुषों से आगे हैं। श्लोक में ‘स्त्रीणां दि्व’गुण आहारो’ शब्द का संबंध महि’लाओं की भूख से है। श्लोक में चाण’क्य कहते हैं कि महि’लाओं को पुरुषों की तुलना दो गुणा अधि’क भूख लगती है। दर’असल पुरुषों की तुलना में महि’लाओं को अधि’क ऊर्जा की जरू’रत होती है। इस’लिए उन्हें अधिक भूख लगती है।

आचार्य चाणक्य

चार गुणा अधिक होती है बु’द्धि

चाणक्य नीति के श्लोक में बुदि्ध’स्तासां चतु’र्गुणा का आशय महि’लाओं की बौद्धि’क क्षमता से है। दरअसल चाण’क्य नीति के अनु’सार, महिलाओं में पुरुषों की तुलना में चार गुणा अधिक बौ’द्धिक क्षमता होती है। वे पुरुषों से अधि’क चतुर और समझदार होती हैं। वे अपनी बौ’द्धिक क्षम’ता से बड़ी से बड़ी समस्या’ओं को निब’टाने में सक्षम होती हैं।

आचार्य चाणक्य

छह गुणा अधिक होता है सा’हस

चाण’क्य नीति के श्लोक में चाण’क्य महिला’ओं के लिए कहते हैं साहसं षड्’गुणं अर्थात महि’लाओं में भले ही शारीरिक बल पुरुषों के मुका’बले कम हो, लेकिन साहस में पुरुष उनसे नहीं जीत पाते हैं। क्योंकि महि’लाओं के अंदर पुरुषों के मुका’बले साहस छह गुणा अधिक होता है। अपने सा’हस के कारण वे बड़ी से बड़ी चुनौ’तियों का सामना करने से नहीं कत’राती हैं।

आचार्य चाणक्य

आठ गुणा अ’धिक होती है कामु’कता

आचार्य चाण’क्य श्लोक में महि’लाओं के लिए कहते हैं कामो’ष्टगुण यानी महि’लाओं में कामु’कता पुरुषों के मुका’बले आठ गुणा अधि’क होती है। यानी इस मामले में महि’लाएं पुरु’षों से कई गुणा आगे हैं।