Categories
health

बनाए वी’र्यव’र्धक औषधि बस इन 2 घरेलू चीजों से, शीघ्र’पतन और स्व’प्नदो’ष की समस्या होंगी दूर…

डेली खबरें

वर्तमान समय में अनिय’मित दिन’चर्या, फास्ट फूड आदि बिना विटा’मिन और प्रोटीन जैसे खाद्य पदार्थों के अत्याधिक सेवन से, अत्या’धिक अंग्रेज़ी दवाइयों के सेवन से, काम के अत्या’धिक तनाव आदि कई कारणों से युवाओं में अनेक प्रकार की सम’स्याएं पैदा हो रही है जिसमें शीघ्र’पतन, वी’र्य की कमी, धातु दुर्ब’लता आदि सम’स्याएं सर्वा’धिक है। यह शीघ्र’प’तन, स्व’प्न’दोष, धातु दुर्ब’लता आदि को दूर करने वाली आयु’र्वेद की अभू’तपूर्व राम’बाण औषधि है।

इसकी विधि इस प्रकार है – 

साहि’त्य

इसके लिए हम 250 ग्राम शहद, 125 ग्राम किश’मिश लें और एक स्वच्छ कांच का आधे ली’टर का ढ’क्कन बंद डि’ब्बा या बोतल।

विधि

250 ग्राम शहद को कांच की बो’तल में डालिए। उसमें 125 ग्राम किश’मिश मिलाइये किश’मिश को पूरी तरह से शहद में मिला’इए। इसकी विधि इस प्रकार है बोतल में बाहर की हवा तक न जा सके इस तरह ढक्क’न से अच्छी तरह बंद कर दीजिए। इस बोतल को 48 घंटों तक ऐसे बंद कमरे में या अल’मारी में रखिए जहां प्रकाश न जा सके ,अब 48 घंटों के बाद यह औ’षधि तैयार है।

सेवन करने की विधि

प्रतिदिन सुबह खाली पेट चार किश’मिश और थोड़ा शहद खूब चबाकर खाइए, एक घंटे तक कुछ भी ना खाएं। इस औ’षधि का लगा’तार 40 दिन तक सेवन करने से शीघ्र’पतन, स्व’प्न’दोष, वीर्य की कमी, धातु दुर्ब’लता, नपुंस’कता आदि रोग जड से ख’त्म हो जाते हैं। इस औष’धि का केवल 40 दिन तक ही सेवन करें। यदि आगे लगा’तार सेवन करना है तो 40 दिन के बाद 15 दिन का गै’प रखें।