Categories
Other

इस बीमारी की दवा से ठीक हो रहा कोरोना, हर मेडिकल स्टोर पर है उपलब्ध, सरकार ने दी अनुमति!!

खबरें

एक तरफ दुनिया कोरोना वायरस से जूझ रही है वहीं दूसरी तरफ वैज्ञानिक कोरोना की वैक्सीन खोजने में लगे हुए हैं। हालांकि कोरोना मरीजों को ठीक करने के लिए डॉक्टर नई-नई दवा का इस्तेमाल कर रहे हैं। इसी बीच दावा किया जा रहा है कि दाद-खाज-खुजली की दवा कोरोना को खत्म करने में बेहद कारगार साबित हो रही है।

दाद-खाज-खुजली की दवा से होगा कोरोना का इलाज

हाल ही में उत्तर प्रदेश सरकार ने कोरोना इलाज के लिए दाद-खाद-खुजली की दवा को मंजूरी दे दी है। यही नहीं, उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग ने सभी जिलों के CMO को कोरोना मरीजों को यह दवा देने के आदेश भी दिए हैं। ऐसा दावा किया जा रहा है कि यह दवा कोरोना के इलाज व बचाव में कारगार है।

PunjabKesari

पेट के कीड़े मारने भी आती है काम

आइवरमेक्टिन (Ivermectin) नाम की यह दवा दाद-खाज-खुजली से होने वाले पैरासाइट इंफेक्शन के लिए यूज की जाती है। इसके अलावा आइवरमेक्टिन का इस्तेमाल रिवर ब्लाइंडनेस, पेट के कीड़े मारने और जुएं मारने के लिए भी किया जाता है।

कैसे काम करती है ये दवा?

विशेषज्ञों की मानें तो आइवरमेक्टिन दवा वायरस को नाभिक और शरीर के जरूरी अंगों तक पहुंचने से रोकती है। इससे वायरस मरीज केDNA से मिलाकर बढ़ते नहीं बल्कि खत्म हो जाते हैं।

PunjabKesari

लोगों को कैसे दी जाएगी ये दवा?

खबरों के मुताबिक, यह दवा उन लोगों को दी जाएगी, जो हल्के लक्षण दिखने के बाद तुरंत हॉस्पिटल में एडमिट होंगे। यह दवा पहले 3 दिन से डिनर के 2 घंटे बाद दी जाए। इसके साथ ही मरीजों को डाक्सीसाइक्लीन दवा भी दी जाएगी। सिर्फ कोरोना मरीज ही नहीं बल्कि संक्रमित मरीज के संपर्क में आए लोग और स्वास्थ्यकर्मियों को भी यह दवा दी जाएगी।

ऑस्ट्रेलिया व बांग्लादेश के वैज्ञानिकों की राय

बता दें कि ऑस्ट्रेलिया व बांग्लादेश के वैज्ञानिक भी इस दवा को कोरोना इलाज में कारगार मान रहे हैं। ऑस्ट्रेलिया में इस दवा से 48 घंटे में ही कोरोना वायरस को पूरी तरह खत्म कर दिया जबकि बांग्लादेश में आईवरमेक्टिन और एंटीबायोटिक डॉक्सीसाइक्लिन को मिलाकर देने पर बेहतर रिजल्ट पाए।

जरूरी बात: कोई भी दवा लेने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें क्योंकि इससे आपकी सेहत को नुकसान भी हो सकता है।