Categories
Other

कोरोना वायरस को फैलाने के आरोपी चीन के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में मुकदमा हुआ दर्ज, वसूले जायेंगे इतने अरब डॉलर

कोरोना संकट जिससे आज पूरा संसार तबाह हैं, उस वायरस के निकलने का केंद्र चीन का एक शहर वुहान जिसने पूरे विश्व के देशों के नाक में दम कर रखा हैं. उस वायरस के बारे में कहा जाता हैं कि ये वायरस किसी जीव जंतु से नहीं बल्कि वुहान के ही एक लैब से निकलकर लोगों में फैला हैं. अमेरिका का दावा हैं कि ये वायरस लैब से निकला हैं और उनके पास इस बात का सबूत भी हैं. अब तो भारत भी ये मान लिया हैं. और इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में भी याचिका जारी हैं. आइये आपको बताते हैं इससे जुड़ी सारी बात.

कोरोना वायरस महामारी फैलाने के आरोप को लेकर चीन से 600 अरब डॉलर का हर्जाना वसूलने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई है. जिसमें मांग की गई है कि वह केंद्र सरकार को निर्देश दे कि वह चीन से हर्जाना वसूलने के लिए अंतरराष्ट्रीय न्यायालय का दरवाजा खटखटाए. याचिका में कहा गया है कि इस बात के पुख्ता प्रमाण हैं कि भारतीय अर्थव्यवस्था को ध्वस्त करने और भारत में हजारों लोगों की जान लेने वाला कोरोना वायरस चीन के वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी से निकला है.

ये याचिका तमिलनाडु के मदुरै के रहने वाले एक शख्स ने दायर की है. जिसमें कहा गया है कि कोरोना वायरस को जानबूझकर चीन ने भारत के खिलाफ जैविक हथियार के तौर पर तैयार किया है. कहा गया है कि क्योंकि कोई व्यक्ति अंतरराष्ट्रीय न्यायालय नहीं जा सकता है इसीलिए केंद्र सरकार को इस संबंध में याचिका दायर करने के लिए निर्देश दे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.