Categories
News

आम आदमी को वै’क्सीन के लिए चुकाने होंगे इतने रुपये….😱

न्यूज़

नई दिल्ली। कोरोना महा’मारी के संक्र’मण से सुरक्षा के लिए दो कोरोना वैक्सी’न को डीसीजी’आई से मंजूरी के बाद भारत में मकर संक्रां’ति के बाद टीकाकरण की शुरू’आत होने जा रही है। इसके साथ ही कोरोना वैक्सीन की कीमत को लेकर चर्चा शुरू हो गई है।

सीरम इंस्टी’ट्यूट ऑफ इंडिया की मानें तो वै’क्सीन की एक खुराक की कीमत बाजार में एक हजार रुपए होगी, लेकिन सीरम इसे बाजार में 600-700 रुपए में बेचेगी। हालांकि पुण स्थित सीरम सर’कार को प्रति सीरम 200 रुपए में मु’हैया करा रही है, जबकि विदेशों में इसकी कीम 3-5 डॉलर के बीच होगी।

हालांकि डीसी’जीआई द्वारा ऑक्स’फोर्ड यूनिवर्सिटी-एस्ट्रजे’नेका की वैक्सीन कोवि’शील्ड और भारत बायोटेक द्वारा विकसित वैक्सी’न कोवा’क्सिन के आपात इस्ते’माल की मंजूरी मिलने के बाद पुणे स्थित कंपनी सीआईआई और हैदरा’बाद में स्थित भारत बायोटेक कब और कितने समय में वैक्सीन का उत्पादन करके डिलीवरी देगी, इन सभी मुददों पर सीरम कंपनी के सीईओ अदार पूना’वाला ने बताया कि पांच करोड़ डोज डिलीवरी के लिए तैयार है। उन्होंने बताया कि कंपनी ने पहले ही वै’क्सीन की लाखों खुराक का उत्पा’दन शुरू कर लिया था।

कंपनी ने सरकार को पहली 10 करोड़ खुराक के लिए 200 रुपए में बेचेगी

मीडिया से वैक्सी’न की कीमत को लेकर चर्चा करते हुए सीरम इंस्टी’ट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ ने बताया कि इसकी कीमत बाजार में 1000 रुपए होगी, लेकिन वो बाजार में 600-700 रुपए में बेचेंगे। उन्होंने बताया कि सरकार को लि’खित रूप में कंपनी ने पहली 10 करोड़ खुरा’क के लिए 200 रुपए की बहुत की विशेष कीमत ऑफर की है, लेकिन 10 करोड़ खुराक के लिए कंपनी सर’कार को 200 रुपए से अधिक कीमत पर वैक्सी’न बेचेगी। वहीं, विदेशों में वैक्सीन की कीमत 3-5 डॉलर होगी। हालां’कि कंपनी अभी वैक्सी’न निर्या’त नहीं कर पाएगी, क्योंकि सरकार ने नि’र्यात करने से मना किया है।

कंपनी पहले चरण में भारत सरकार और जीएवीआई को बिक्री शुरू करेगी

हालांकि कंपनी पहले चरण में भारत सरकार और जीएवीआई (वैक्सीन और टीकाकरण के वैश्विक गठजोड़) देशों को कोविशील्ड की बिक्री शुरू करेगी और प्राथमिकता के आधार पर यह वैक्सीन भारत और जीएवीआई देशों को दी जाएगी। उसके बाद वैक्सीन की बिक्री निजी बाजार को की जाएगी। फिलहाल, सीआईआई के पास फिलहाल पांच करोड़ वैक्सीन की खुराक मौजूद है। बताया जा रहा है कि एक महीने तक सीरम के पास इस टीके की 10 करोड़ खुराक होगी और अप्रैल तक संभवत: यह आंकड़ा दोगुना हो जाएगा।

भारत बायोटेक की को’वैक्सीन की कीमत सीरम की वैक्सीन से भी कम होगी

वहीं, भारत बायोटेक और आईसीएमआर की तरफ से विकसित की जा रही कोवैक्सीन की कीमत सीरम की वैक्सीन से भी कम होगी। भारत बायोटेक के एमडी डॉ’क्टर कृष्णा एल्ला पहले ही बता चुके हैं कि कोवै’क्सीन पानी से भी सस्ती होगी। उनकी इस टिप्पणी से इशारा मिलता है कि कोवै’क्सीन की कीमत 100 रुपए से भी कम रहेगी। हालांकि अमेरिकी कंपनी मॉ’डर्ना की वैक्सीन की संभा’वित कीमत 37 डॉलर प्रति डोज यानी करीब 2700 रुपए हो सकती है। हालांकि संयुक्त राष्ट्र के कोवै’क्स प्रोग्राम के तहत गरीब देशों में यह वैक्सी’न सब्सिडी पर उपलब्ध होगी।

जुलाई, 2021 तक भारत सरकार को 30 करोड़ खुराक की जरूरत होगी

गौरत’लब है सरकार ने संकेत दिया है कि उसे जुलाई, 2021 तक 30 करोड़ खुरा’क की जरू’रत होगी। शुरुआत में यह टीका स्वा’स्थ्य क’र्मियों और बुजुर्गों को लगाया जाएगा। डीसीजीआई द्वारा मंजूर किए गए दोनों कोवै’क्सीन और कोवी’शील्ड वैक्सीन वाय’रस को जड़ से ख़त्म करने में बहुत प्रभावी बताई गई है। क्लीनि’कल ट्रा’यल मे दोनों वैक्सीन के अच्छे परिणाम दिखे गए है।

मंजूर की गई दोनों वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित हैंः केंद्रीय स्वा’स्थ्य मंत्रा’लय

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय पहले ही स्पष्ट कर चुका है कि मंजूर की गई दोनों वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित हैं। कोवैक्सीन और कोवि’शील्ड के अभी तक के ट्रायल में किसी भी तरह का कोई गंभीर साइड इफेक्ट सामने नहीं आया है। इसके बावजूद स्वा’स्थ्य मंत्रालय का कहना है कि जब बड़े स्तर पर कोई भी टीका’करण अभियान शुरू होता है, तो कभी-कभी बहुत हल्के साइड इफे’क्ट सामने आते हैं और इसके लिए राज्य सरकारों से तैयार रहने के लिए कहा गया है।

वैक्सीन लेने के लिए इस ऐप पर रजि’स्ट्रेशन कराना होगा

वैक्सीन को लेकर सरकार ने एक ऐप (को-विन) बनाया है, जो टीका’करण शुरू होने के बाद उपलब्ध होगा। वैक्सीन लेने के लिए इस ऐप पर रजि’स्ट्रेशन कराना होगा, जिसके लिए कोई एक पहचान पत्र जैसे- आधार कार्ड, वोटर कार्ड, डीएल, पासपोर्ट या पैनकार्ड आदी जरूरी होगा। रजि’स्ट्रेशन कराने के बाद मोबाइल पर एसए’मएस के जरिए टीका’करण का दिन, समय और स्थान की जानकारी मिलेगी।

पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंट’लाइन वर्कर्स और 50 साल से ऊपर का टीका’करण

स्वा’स्थ्य मंत्रा’लय के मुता’बिक कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान के पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंट’लाइन वर्कर्स और 50 साल से ऊपर की उम्र के उन लोगों को वै’क्सीन दी जाएगी, जो गंभीर रोगों से पीड़ित हैं। सरकार का लक्ष्य है कि अगले 6 महीनों के भीतर ऐसे करीब 30 करोड़ लोगों को टीके की खुराक दी जानी है। इनमें से 3 करोड़ कोरोना वॉरि’यर्स शामिल हैं।

30 करोड़ लोगों मुफ्त टीके खुराक देने में 12 अरब रुपए का खर्च आएगा

माना जा रहा है कि भारत सरकार को प्रथम चरण में 30 करोड़ लोगों मु’फ्त टीके खुराक देने में करीब 12 अरब रुपए का खर्च आएगा, क्योंकि सीरम इंस्टी’ट्यूट ऑफ इंडिया सरकार से प्रति खुराक वै’क्सीन के लिए 200 रुपए चार्ज कर रही है और प्रत्ये’क को वैक्सीन की दो खुराक दी जानी है। इस तरह एक खुराक देने के लिए जहां 6 अरब रुपए का खर्च आएगा और दूसरे खुराक के लिए 12 अरब का खर्च आएगा।