Categories
News

बड़ी खबर-: अभी अभी खत्म हुआ आतं’क का आका, हार्ट अटै’क से हुयी अंड’रव’र्ल्ड डॉ’न “दाऊद”………की मौ’त!!

खबरें

आज से लगभ’ग ढाई द’शक पहले जब मुंबई में अं’डरव’र्ल्ड डॉ’न का खौ’फ अपनी चर’म सी’मा पर था, उसी समय छोटा श’कील डी कं’पनी के एक पं’टर को पत्र’का’र के रू’प में मुं’बई पु’लिस मु’ख्याल’य भेजा करता था। ऐसें में अंड’रव’र्ल्ड में उसे एस’टी’डी(STD) के नाम से लोग जा’नते है। लेकिन मं’गलवा’र की रात को दक्षि’ण मुंबई में स्थि’त अपने घर में दि’ल का दौ’रा पड़’ने से उसकी मौ’त हो गई। जिसके बाद से अब ए’सटी’डी का व’जूद ख’त्म हो गया।

STD की मां दा’ऊद की बहनों को कुरा’न भी पढ़ाती
इस पंटर का नाम STD इ’सलिए पड़ा, क्योंकि वह STD बूथ से दा’ऊद को मुंब’ई की हर खबर देता था। उन दिनों अंड’रव’र्ल्ड में मोबा’इल कॉ’लिंग का प्रच’ल’न शुरू नहीं हुआ था। वि’श्व’स्त सूत्रों का कहना है कि इस STD की मां दाऊ’द की ब’हनों को कु’रा’न भी पढ़ा’ती थी।

ऐसे में सूत्रों से सामने आई रिपोर्ट के मु’ताबि’क, ‘दा’ऊद के STD’ ने मुंबई के एक छोटे अख’बार का आ’ईका’र्ड ले रखा था। इसमें प’त्रकार को किसी सं’स्था’न में नौकरी करने की सै’लरी मिलती थी। हालाकिं ‘दाऊ’द के STD’ का दा’वा था कि आ’ईकार्ड देने वाले सं’पा’दक को ही वह हर महीने 25 हजार रुपये सै’लरी दिया करता था। और उसके दा’वे को पु’लिस ऐ’विडेंस नहीं बना पाई थी।

साथ ही ‘STD’ उस दौ’र में पुलि’स मुख्याल’य आने वाले त’माम प’त्रका’रों को प्रे’स रूम के बा’हर चाय का ऑ’फर भी ज’रूर देता था, जिससे सबसे उसकी दो’स्ती बनी रहे और फिर इन प’त्रका’रों के जरिए उसे टॉप पु’लिस अ’धिकारि’यों के डी कं’पनी के खि’लाफ किए जाने वाले सं’भावित ऑ’परेशन की ख’बर मिलती रहे।

सा’जिश को भां’प ही नहीं पाया
लेकिन कोई भी प’त्रकार उ’सकी सा’जिश को भांप ही नहीं पाया। पर उन दिनों पु’लिस प्रेस रूम में बै’ठनेवा’ले एक सि’पाही को श’क हुआ। फिर उसके मूव’में’ट्स पर नजर रखी गई और उसे भी हि’रास’त में लिया गया।

फिर कई साल तक आजाद मै’दान पु’लिस क्ल’ब में जनवरी के दूसरे या तीसरे ह’फ्ते में पु’लिस की सा’लाना प्रे’स कॉ’न्फ्रें’स हुआ करती थी। छोटा श’कील इस S’TD के जरिए उस प्रे’स कॉ’न्फ्रें’स में दरअसल शू’टआ’उट करवा’ना चाहता था, हालाकिं पु’लिस प्रे’स रू’म में बैठने वाले सि’पाही ने इस ST’D और श’कील दोनों की सा’जिश को फे’ल कर दिया था।

वहीं उस सि’पाही को अं’डरव’र्ल्ड के खि’लाफ एक बड़े ऑ’परेश’न के लिए गै’लंट्री अवा’र्ड भी मिला था। इसके बाद इस STD को कुछ महीने बाद बे’ल मिल गई। और बाद में वह पु’लिस का ही ख’बरी बन गया था, जो दा’ऊद के लोगों की जा’नकारि’यां ही पु’लिस को दिया करता था।