Categories
News

दि’ल्ली की हवाओ में फैला ज़हर, गाजि’याबाद सर्वाधिक प्रदू’षित, जाने दि’ल्ली का पूरा हाल!

न्यूज़

सार

  • सुबह से रात तक हर ओर धुआं-धुआं
  • लोगों को आंखों में जलन और सांस लेने में हुई दिक्कत
  • पराली के बजाय स्था’नीय व मौसमी कार’कों से बिगड़ी हवा

विस्तार

दिल्ली-एनसी’आर सहित देश के कई इला’के बुध’वार सुबह से रात तक स्मॉ’ग की घनी चाद’र में लिपटे रहे। इससे लोगों को आं’खों में जल’न और सांस लेने में परे’शानी का साम’ना करना पड़ा। एनसी’आर में गाजि’याबाद 389 एक्यू’आई के साथ सबसे प्रदू’षित रहा, जबकि ग्रेटर नो’एडा में वायु गुण’वत्ता सूच’कांक 368 दर्ज किया गया। 


गुरु’ग्राम को छोड़’कर राज’धानी सहित एनसी’आर से अधि’कतर शहरों में हवा बेहद खराब श्रे’णी में दर्ज की गई। गाजि’याबाद व दि’ल्ली के कई इला’कों में वायु गुण’वत्ता सूच’कांक 400 को पार कर गया। राज’धानी में औसत वायु गुण’वत्ता सूच’कांक 343, फरीदा’बाद में 331 दर्ज किया गया, जबकि गुरु’ग्राम में 296 रहा। सफर के अनुसार सुबह हवा’ओं का रुख दक्षिण-पश्चि’मी होने के कारण राज’धानी में स्मॉग बढ़ा है। हवा की चाल धीमी होने की वजह से भी प्रदू’षण को बढ़ने में सहायता मिली। अनुमान है कि आगा’मी दो से तीन दिनों तक हवा का स्तर बहुत खराब श्रेणी में ही बने रहने की संभा’वना है।


केंद्रीय प्रदू’षण नियं’त्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अनुसार, राज’धानी में वायु गुण’वत्ता सूच’कांक 343 दर्ज किया गया जबकि एक दिन पहले 302 था। वहीं हॉट’स्पॉट क्षेत्रों में हवा का स्तर खतर’नाक श्रेणी में रहा। वेंटि’लेशन इंडे’क्स 9500 घनमी’टर प्रति सेकंड और हवा की रफ्तार 15 किमी प्रति घंटा दर्ज की गई।

राज’धानी में सुबह से ही स्मॉ’ग की चादर छाई हुई थी। लोग उठे तो स’ड़कों से लेकर कॉलो’नियों में भी स्मॉग का असर दिखा। यही वजह थी कि अधि’कतर लोगों को पूरा दिन आंखों में जलन व गले में ख’राश के साथ सांस लेने में तकली’फ हुई।  

प्रदू’षण में पराली के धुएं का हिस्सा 5 फीसदी
पृथ्वी विज्ञान मंत्राल’य की वायु मानक सं’स्था सफर के अनुसार, हरि’याणा, उत्तर प्रदे’श और पंजाब में पराली जलाने की 1,949 घट’नाएं दर्ज की गई। इससे उत्पन्न होने वाले पीएम 2.5 की प्रदू’षण में केवल पांच फ़ीसदी हिस्से’दारी रही। बाव’जूद इसके एनसी’आर में स्मॉग का जबर’दस्त असर दिखा। वहीं, पीएम 10 का स्तर 319 और पीएम 2.5 का स्तर 163 दर्ज किया गया। 

हॉट’स्पॉट क्षेत्रों में भी गं’भीर स्थि’ति में रहा हवा का स्तर
राज’धानी में हॉट’स्पॉट क्षेत्रों में हवा का स्तर गं’भीर श्रेणी में पहुंच गया। सबसे अधिक ख’राब हवा बवाना क्षेत्र में दर्ज की गई जहां वायु गुण’वता सूच’कांक 423 रहा। नरेला में 419, जहांगी’रपुरी में 417 , वजी’रपुर में 415, सो’निया विहार में 395, आनंद विहार में 380, मुंडका में 373, विवेक विहा’र में 365 और पटप’ड़गंज में 343 दर्ज किया गया है।

एनसी’आर में प्रदू’षित शहर
गाजियाबाद     389
ग्रेटर नोएडा     368
नोएडा           345
दिल्ली           343
फरीदाबाद     331
गुरुग्राम        296

देश के सबसे प्रदूषित शहर
अंबाला       452
मुरादाबाद     425
बागपत        420
मुजफ्फरनगर  412
गाजियाबाद    389