Categories
News

प’ति रहता था दूर तो दे’वर के इश्क में कैद हुई भाभी, बि’छ’ड़ने का डर स’ता’या तो बा’हों में बा’हें डाल…😢😢

हिंदी खबर

फते’हपुर जिले में गा’जी’पुर थाना क्षेत्र के लम’हेटा गांव में एक ही फं’दे में दे’वर और भा’भी के शव ल’टक’ते मिले। परि’जनों ने कमरे का द’रवा’जा खोला तो दोनों के शव साड़ी से बने फंदे से ल’ट’क रहे थे। पु’लि’स के अनु’सार दे’वर और भा’भी एक दूसरे से प्या’र कर’ते थे। देवर की शादी तय हो जाने से दोनों को एक दूसरे से बिछ’ड़ने का ग’म सता रहा था। मा’म’ला गा’जी’पुर थाना क्षेत्र का है। 

बां’दा जि’ले के ब’बेरू था’ना क्षेत्र के बदौ’ली के’वट’रा निवा’सी रस’पाल की बेटी सुनी’ता (28) की शादी 2016 में ब्राम्हण’तारा गांव के हरि’ओम निषा’द पुत्र शिवब’रन के साथ हुई थी। हरिओम बांदा में जे’सीबी, चा’लक है। हरि’ओम काम के सिल”सिले में अक्सर बांदा में रहता है। शा”दी के कुछ दिन बाद से सुनीता और देवर राम’मि’लन (22) के बीच ना’जा’यज रिश्”ते हो गए। वह एक दूसरे को चाहने लगे।

यह बात परिवार के लोगों को पता लगी थी। कहीं न कहीं अब वि’वा’द की स्थिति बनने लगी थी। मामले को ख’त्म करने के लिए परि’ज’नों ने रा’म’मिल’न की शादी करने की सोची। असोथर थाना क्षेत्र के एक गां’व में राम’मि’लन की 7 मई 2021 की शादी की ता’रीख पक्की हुई थी। तभी से देवर और भाभी को एक दूसरे से दूर जाने का गम सताने लगा। परिजनों ने बताया कि मंगलवार देर रात राममिलन पिता के साथ निमंत्रण से लौटा था।

सभी लोग सोने चले गए। इस दौरान किसी से कोई वि’वाद नहीं हुआ। सुनीता का तीन साल बेटा हर्ष (3) दादी गें’दिया के पास सोया था। दूसरी तीन माह की बेटी क्रांति को लेकर सुनीता कमरे में सो’ई थी। मंगलवार सुबह सुनीता कमरे से बाहर नहीं निकली। कमरे से बच्ची की रोने की आवाज आई और राममिलन भी नहीं दिखा। तभी दरवाजे की कुंडी परिजनों ने हाथ डालकर खोली तो नजारा देखकर परिजनों के होश उड़ गए। पंखे के हुक से साड़ी का फंदा बंधा हुआ था। साड़ी के एक छोर पर सुनीता और दूसरे सिरे पर राममिलन के शव लटके हुए थे। 

सुनी’ता का चेहरा राममि’लन की छाती पर टिका था। एक पैर सुनीता का चारपाई में फंसा था, दूस’रा पैर चार’पाई के नीचे लटका हुआ था। फोरें’सिक टीम ने पड़ताल भी की। जाफ’रगंज सीओ संजय शर्मा और एस’ओ क’मले’श पाल मौके पर पहुंचे। एएसपी रा’जेश कु’मार ने बताया कि दोनों के बीच आश’नाई का मामला था। राममि’लन के पिता शिव’बरन की ओर से प्रेम प्रसंग के चलते आत्म’हत्या की तह’रीर दी गई है। किसी प’क्ष ने आ’रोप नहीं लगा’या है।