Categories
Entertainment News

कहानी: जब धोनी ने न दौड़ने की कसम खाई और पूरी पारी में दूसरे बल्लेबाज़ को स्ट्राइक ही नहीं दी!

वायरल खबर

एमएस धोनी. इंटरनेशनल क्रिकेट को हमेशा के लिए अलविदा कह गए हैं. हालांकि आईपीएल में वो अब भी फैंस को दिखते रहेंगे. लेकिन संन्यास के बाद धोनी की पुरानी जीत, उपलब्धियां और बहुत-सी चीज़ों की बातें हो रही हैं. इसी बीच सोशल मीडिया पर एक पुराना स्कोरकार्ड भी वायरल हो रहा है.

ये स्कोरकार्ड है बिहार अंडर-25 और तमिलनाडु अंडर 25 के एक मैच का. साल 2002-03 में नेशनल अंडर 25 नाम का टूर्नामेंट खेला गया. इसका एक मैच बैंगलोर में खेला गया. धोनी बिहार की तरफ से इस मैच का हिस्सा बने.

इस स्कोरकार्ड में धोनी ने अनोखा कमाल किया

इसमें बिहार की पारी का स्कोरकार्ड दिखाया गया है, जिसमें बिहार की टीम ने 60.4 ओवर बैटिंग की और 244 रन बनाए. इस स्कोरकार्ड में धोनी सबसे बड़े स्कोरर रहे. उन्होंने 64 गेंदों में 66 रन बनाए. अब आप सोच रहे होंगे कि इसमें कौन-सी बड़ी बात है, धोनी के लिए 66 रन बनाना तो एक मामूली-सा काम है.

लेकिन खास बात ये है कि पहला तो धोनी इस मैच में पारी ओपन करने उतरे. दूसरा ये कि उन्होंने जो 66 रन बनाए, इसमें 15 चौके एक छक्का लगाया. अब समझिए 15 x 4 होता है 60 रन और जमा एक छक्का हो गए 66 रन. यानी के धोनी इस पारी में एकदम ‘वन मैन आर्मी’ की तरह खेले. ओपन करते हुए उन्होंने अपने साथी स्ट्राइकर को एक बार भी स्ट्राइक नहीं दी.

धोनी के मैनजेर ने बता ही दिया क्यों लिया 15 अगस्त 2020 को संन्यास: 

जब वो 21वें ओवर में आउट हुए, तब तक उन्होंने रन लेने के लिए एक भी दौड़ नहीं लगाई. धोनी ने 64 में से सिर्फ 16 गेंदों में ही रन बनाए, वो भी बाउंड्री से. बाकी के 48 गेंदें आराम से टुक-टुक करके खेलीं.

धोनी के साथ उनके जो साथी ओपनर उतरे थे, यानी के संदीप विज़, उन्होंने 62 गेंदों में 16 रन बनाए और सिर्फ एक चौका लगाया. यानी दूसरे ओपनर ने भागकर 12 रन भी लिए. लेकिन दूसरे एंड पर खड़े धोनी आराम से बिना किसी दौड़-भाग के स्कोर को 100 से ऊपर के स्ट्राइक रेट से चलते रहे.