Categories
News

हो’गा धर’ती का वि’नाश: आ’ग की बा’रिश से रा’ख हो’गें लो’ग, वैज्ञानि’कों की भी हा’लत हु’ई ख’राब, दे’खें आ’ने वा’ला है…

हिंदी खबर

न’ई दि’ल्ली: वो कै’सा मं’जर हो’गा ज’ब पृ’थ्वी प’र प्रल’य आ’एगा, सोच’कर क’र देखि’ए। हम’ने फि’ल्मों औ’र  कहा’नियों में प्र’लय के बा’रे में दे’खा औ’र सु’ना ही हो’गा। क’हा जा’ता है कि पृ’थ्वी प’र विनाश’कारी प्रल’य ह’र 2.7 क’रोड़ सा’ल बा’द आ’ता है। कु’छ एक्स’पर्ट तो ये भी क’हते है कि आ’खिरी बा’र प्रल’य 6.6 क’रोड़ सा’ल प’हले आ’या था, उ’स दौरा’न पृ’थ्वी प’र शा’यद एस्टरॉ’इड या धूम’केतु के गि’रे, जि’सके का’रण डाय’नोसॉर (Dinosaurs) वि’लुप्त हो ग’ए थे। व’हीं ये भी क’हा जा’ता है कि प्रल’य के स’मय आ’काश से आ’ग के गो’ले गि’रेगें। चलि’ए जान’ते है क्या है इस’के पी’छे का रा’ज…

धूम’केतुओं की बा”रिश

अमे’रिका के रिस’र्चर्स ने न’ए स्टैटिस्टि’कल एना’लिसिस के त’हत य’ह पा’या है कि पू’रे जी’वन को न’ष्ट क’र दे’ने वा’ले धूम’केतुओं की बारि’श ह’र 2.6 से 3 क’रोड़ सा’ल में हो’ती है। ये त’ब हो’ता है ज’ब वे गै’लेक्सी से हो’कर गु’जरते हैं। य’ह प्र’लय क’म से क’म 3 क’रोड़ सा’ल पी’छे है। क’हा जा’ता है कि गै’लेक्सी से हो’कर गु’जरने वा’ले ये धू’मकेतु अ’गर गल’ती से भी धर’ती से टक’राते हैं तो पू’री दुनि’या में अंधे’रा छा जा’एगा। व’हीं जंग’लों में आ’ग, ए’सिड की बारि’श हो’गी। सा’थ ही ओ’जोन पर’त का भी खत’मा हो जा’एगा। म’नुष्य से ले’कर स’भी जी’व भी न’ष्ट हो जा’एंगे।

धर’ती से नि’कला था ला’वा

कु’छ वैज्ञानि’कों य’ह भी क’हते है, “अ’भी त’क ज’मीन औ’र पा’नी प’र ए’क सा’थ विना’श त’ब हु’ए थे, ज’ब ध’रती के अं’दर से ला’वा निकल’कर बा’हर आ ग’या था।” व’हीं कु’छ ए’क्सपर्ट्स का य’ह भी मान’ना है कि गैले’क्सी में जि’स त’रीके से पृ’थ्वी च’क्कर ल’गाती है, उस’से खत’रा भी त’य हो’ता है।“