Categories
Other

क्या आप जानते हैं शिवरात्रि और महाशिवरात्रि में क्या होता हैं अंतर?

क्या आप जानते हैं शिवरात्रि और महाशिवरात्रि में क्या अंतर होता हैं? अगर नहीं तो आज हम आपको बताएँगे शिवरात्रि और महाशिवरात्रि के बारे में. शायद ही कभी आपने यह सुना होगा कि होली या महाहोली, दीपावली या महादीपावली, नवरात्रि या महानवरात्रि. लेकिन आपने दो शब्द कैलेंडर में पढ़ें होंगे, एक शिवरात्रि और दूसरा महाशिवरात्रि. आइये आपको बताते हैं इनके बीच होने वाले अंतर को.

इस बार यह शिवरात्रि 21 फरवरी दिन शुक्रवार को है. शिवभक्त इस दिन व्रत रखकर अपने आराध्य का आशीर्वाद प्राप्त करते हैं. मंदिरों में जलाभिषेक का कार्यक्रम दिन भर चलता है. हर महीने कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी के दिन आने वाली शिवरात्रि को केवल शिवरात्रि कहा जाता है. वहीं फाल्गुन मास की कृष्ण चतुर्दशी के दिन आने वाले शिवरात्रि को महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाता है. जिसे बड़े ही हषोर्ल्लास और भक्ति के साथ मनाया जाता है. साल में होने वाली 12 शिवरात्रियों में से महाशिवरात्रि सबसे महत्वपूर्ण मानी जाती है.

इस चतुर्दशी को शिवपूजा करने का विशेष महत्व और विधान है. कहते हैं कि फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी की रात्रि में आदिदेव भगवान शिव करोड़ों सूर्यों के समान प्रभाव वाले लिंग रूप में प्रकट हुए ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी तिथि में चंदमा सूर्य के नजदीक होता है. उसी समय जीवनरूपी चंद्रमा का शिवरूपी सूर्य के साथ योग-मिलन होता है.  सूर्य देव इस समय पूर्णत: उत्तरायण में आ चुके होते हैं तथा ऋतु परिवर्तन का यह समय अत्यन्त शुभ कहा गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.