Categories
News

क’ल है धर’ती को भया’नक ख’तरा: हो’गी ब’ड़ी तबा’ही, भूल’कर भी घ’र से बा’हर..प’ढ़ें पू’री ख’बर…

हिंदी खबर

क्यो’टो। धर’ती के बा’रे में कु’छ रोच’क त’थ्य अमेरि’की स्पे’स एजें’सी ना’सा(NASA) के अनु’सार, 5 ला’ख से ज्या’दा म’लबे के टुक’ड़े हमा’री धर’ती के इध’र-उ’धर च’क्कर का’ट र’हे हैं। मल’बे के इ’न टुक’ड़ों में से क’ई ते’ज ग’ति प’र घू’म र’हे हैं जिन’की व’जह से हमा’री सैट’लाइट्स या स्पेस’क्राफ्ट त’क को का’फी नुक’सान पहुं’च स’कता है। ऐ’से में इ’न म’लबों के टुक’ड़ों की वज’ह से इं’टरनैशनल स्पे’स स्टेश’न को भी खत’रा हो सक’ता है। इ’स बा’रे में जा’पान की क्यो’टो यूनि’वर्सिटी औ’र कंस्ट्रक्श’न कंप’नी Sumitomo Forestry सा’ल 2023 त’क ध’रती प’र प’नप र’ही इ’स सम’स्या का समा’धान निका’लने के लि’ए एक’जुट हु’ए हैं।

चिं’ता का विष’य

धर’ती के इ’र्द-गि’र्द चक्क’र ल’गा र’हे मल’बे के 5 ला’ख से ज्या’दा टुक’ड़ों के बा’रे में जा’पान के ऐस्ट्रो’नॉट औ’र यूनिव’र्सिटी प्रोफे’सर तका’ओ दो’ई के हिसा’ब से ये ए’क चिं’ता का वि’षय है।

उन्हों’ने बता’या है कि सैट’लाइट ध’रती में वा’पस आ’ते व’क्त ज’ल जा’ती हैं औ’र उन’का म’लबा सा’लों त’क वायुमं’डल में घूम’ता र’हता है। इस’से पर्याव’रण प’र अस’र पड़’ता है। NASA के अनु’सार, ये टुक’ड़े 17,500 मी’ल प्रति’घंटा की रफ्ता’र त’क हा’सिल क’रते हैं।

लक’ड़ी से ब’ने सैट’लाइट्स प’र का’म

ऐ’से में जा’पान ने इस’का समा’धान निका’लने के लि’ए ल’कड़ी से ब’ने सैट’लाइट्स प’र का’म क’रना भी शु’रू क’र दि’या है। ये ताप’मान में हो’ने वा’ले बद’लाव औ’र सूर’ज की रोश’नी के खि’लाफ प्रति’रोधक क्ष’मता से लै’स हों’गे।

ब’ता दें, ये अप’नी त’रह का पह’ला ऐ’सा प्रॉ’जेक्ट है। इस’के लि’ए धर’ती की विष’म परिस्थिति’यों में ल’कड़ी का परी’क्षण कि’या जा र’हा है। जिस’के च’लते ध’रती में दा’खिल हो’ने प’र ये पू’री त’रह ज’ल जा’एंगी औ’र को’ई मल’बा न’हीं ब’चा र’ह पाए’गा।