Categories
Other

उंगलियां चटकाते है तो ये बात जानकर तुरंत बंद कर देंगे उंगलियां चटकाना!

कई लोग ऐसे होते हैं जिन्हें दिनभर उंगलियां चटकाने की आदत होती है. जी हां, घर पर या दफ्तर में बैठना या उंगलियां चटकाना चाहे वो लिख या पढ़ भी रहे होते हैं. यह कई महिलाओं और पुरुषों की आदत में शुमार है. अक्सर हम इसे एक शौक या मामूली आदत मानते हैं. हाथों की उंगलियां चटकने के बाद बहुत आराम मिलता हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि आपका यह शौक आपको गंभीर बीमारी का शिकार बना सकता है. लेकिन शायद आपको पता नहीं है कि इस तरह से हड्डियों या उंगलियों को चाटना बहुत हानिकारक है. आइए जानते हैं कि उंगलियों को चाटने से आपकी सेहत को कैसे नुकसान हो सकता है.

सड़कों पर उंगलियों को चटकाने से हड्डियों पर बुरा असर पड़ता है. हाथ, पैर की उंगलियों में दरार पड़ने से काम करने की क्षमता कमजोर हो जाती है. इसलिए उंगलियों को चटकाने की आदत छोड़नी होगी. आपको बता दें की सिनोवियल द्रव तरल उंगलियों और घुटने के जोड़ों में पाया जाता है. यह तरल हड्डियों को जोड़ने में सहायक है. यह तरल हमारी हड्डियों के जोड़ों में ग्रीस का काम करता है. यह तरल हड्डियों को एक दूसरे से रगड़ने से रोकता है. तरल में गैस, जैसे कार्बन डाइऑक्साइड, एक नई जगह बनाता है जो हड्डियों में बुलबुले बनाता है. उंगलियों के फटने पर वही बुलबुले फूटते हैं.

लेकिन आपको पता होना चाहिए की बार-बार उंगलियों को चटकाने से सिनोवियल फ्लुइड लिक्विड कम होने लगता है. श्लेष तरल पदार्थ के बिगड़ने से गठिया हो सकता है, और जोड़ों के बार-बार खिंचाव भी हड्डियों की पकड़ को कम कर सकता है. इसलिए, उंगलियों को दरार नहीं किया जाना चाहिए. अगर आप भी अपने हाथों को रखना चाहते हैं सुरक्षित तो तुरंत बंद कर दे उंगलियों को चटकाना.

Leave a Reply

Your email address will not be published.