Categories
News

मध्यप्रदेश में भारी बारिश का कहर जारी, इंदौर, उज्जैन समेत 8 जिलों में स्कूलों की छुट्‍टी

मध्य प्रदेश में पिछले 9 दिनों में भोपाल में भारी बारिश हुई। भारी बारिश के कारण नए जिलों में जनजीवन प्रभावित हुआ है। नदियाँ भर रही हैं और सड़कों पर पानी भर गया है। मौसम विभाग ने इंदौर और उज्जैन सहित मध्य प्रदेश के 51 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी दी। बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए राज्य के 8 जिलों के स्कूलों में छुट्टियां घोषित की गईं।

लगातार बारिश ने बढ़ाई समस्या: मध्य प्रदेश में लगातार हो रही बारिश अब लोगों की परेशानी का कारण बन गई है। सड़कें पानी से भरी हैं और कई घरों में पानी घुस गया है। नदी बाढ़ में हैं और पानी पुल पर बहता है। इस वजह से कई सड़कें बंद हैं। शिवना नदी का पानी फिर से मंदसौर में पशुपतिनाथ मंदिर में प्रवेश कर रहा है। मल्हारगढ़ में भी बारिश से हालात विकराल हैं।

बारिश की संभावना यहां: मौसम विभाग ने शनिवार को भी होशंगाबाद, बैतूल, हरदा, भोपाल, रायसेन, राजगढ़, विदिशा, सीहोर, सागर, दमोह, पन्ना, टीकमगढ़, छतरपुर, रीवा, सतना, सीधी, सिंगरौली, सिंगरौली, इंदौर, धार , खंडवा, खरगोन अवनिंग प्राप्त, सिवनी, मंडला, श्योपुर के बारे में बात करने का समय है, भिंड को आवाज़ दी और भारी बारिश की आशंका मुरैना।

स्कूल की छुट्टियां: भारी बारिश की घोषणा के कारण, जिला प्रशासन ने इंदौर, रतलाम, उज्जैन, खंडवा, अलीराजपुर, उमरिया, खरगोन और गुना स्कूलों में छुट्टियां घोषित कीं। मौसम विभाग ने इन जिलों में आने वाले 24 घंटों में भारी बारिश की संभावना जताई है।

फसलों पर असर: भारी बारिश किसानों को परेशान कर रही है। इससे सोयाबीन की खेती पर हानिकारक प्रभाव पड़ता है। फसलों को अब धूप की जरूरत है, लेकिन बारिश की वजह से सोया अब सड़ने लगा है।

मौसम विभाग के अनुसार, 9 दिन पहले बंगाल की खाड़ी में एक कम दबाव का क्षेत्र बना। यह प्रणाली 3 दिनों तक ओडिशा में सक्रिय थी। बाद में, वह पूर्वोत्तर क्षेत्र में सक्रिय हो गया। 6 दिनों के बाद से, यह पूरे मध्य प्रदेश में फैल गया है। फिलहाल 3 से 4 दिनों तक राहत की उम्मीद नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.