Categories
Other

18 हजार सालों से बर्फ में दबे इस जानवर को देखकर वैज्ञानिक हुए हैरान

किसी के मृत शरीर को कुछ दिनों या महीनों तक तो फ्ऱीज़ करके रखा जा सकता है लेकिन सालों तक रखना नमुमकीन होता है.साइबेरिया से एक मामला सामने आया है जहाँ एक 18 हज़ार साल पुराना कुत्ते का शव मिला है जो इतने सालों इस बर्फ़ीले इलाक़े में दफ़न था.

साइबेरिया में तूफानी लहरों के बीच एक कुत्ते का बच्चा फंस गया था जिसकी बर्फ में दबने से मौत हो गई लेकिन सबसे ज्यादा हैरानी की बात तो ये हैं कि 18 हज़ार साल बाद बर्फ हटने के बाद कुत्ते की लाश मिली और वो पूरी तरह से सही अवस्था में है.

वैज्ञानिकों का कहना है कि बर्फ की मोटी सतह के नीचे दबने पर कुत्ते का अवशेष इतने लंबे साल तक भी सुरक्षित है. वैज्ञानिकों के अनुसार इस प्रक्रिया को पर्माफ्रॉस्ट कंडीशन कहते हैं. 18 साल बाद मिले कुत्ते के अवशेष पर स्वीडन के वैज्ञानिक भी रिसर्च कर रहे हैं। वैज्ञानिकों के मुताबिक जब कोई जीव-जंतु दो साल से ज्यादा समय के लिए जीरो डिग्री तापमान से नीचे रहता है तो उसे परमाफ्रॉस्ट कहते हैं.

वैज्ञानिकों का अनुमान है कि जब इस कुत्ते की मौत हुई थी तो ये दो साल का था. इसके बाल, दांत और नाक पूरी तरह से सुरक्षित हैं. अभी यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि यह कुत्ते का बच्चा है या भेड़िये का है। वैज्ञानिक मानते हैं कि वर्तमान कुत्ते भेड़ियों की ही एक प्रजाति है। इनका जैविक इतिहास 20 से 40 हजार साल पुराना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.