Categories
Other

इरफान खान के भाई नहीं होगें उनके नमाज-ए-जनाजा में शामिल, बड़ी वजह आई सामने

इरफान खान ने दुनिया को अलविदा कह दिया है. उन्होंने अपने आखिरी शब्द में कहा- हेलो भाइयों बहनों… मैं इरफान खान . मैं आज आपके साथ हु भी और नही भी .” ये उन्होने अपनी ज़िंदगी की आखिरी बॉलीवुड फिल्म ‘इंग्लिश मीडियम’ के प्रमोशन के दौरान कहा था. आपको बता दें कि हरफनमौला कलाकार इरफान खान अब हमारे बीच नहीं रहे. कैंसर की लंबी लड़ाई वो आज हार गए और मुम्बई के कोकिलाबेन अम्बानी अस्पताल में आखिरी सांस ली.

बॉलीवुड के साथ साथ पूरे देश में इरफान खान की मौत पर शोक व्यक्त किया है. इरफान के अंतिम सफर में उन्हें चाहने वाला हर कोई शामिल होना चाहता है. लेकिन मुम्बई में कोरोना संक्रमण की चिंता और लॉकडाउन के बीच इरफान खान के अंतिम सफर में शामिल होना एक बड़ी बाधा है.  इरफान के भाई और परिवार के कुछ सदस्य जयपुर में है और लॉकडाउन के बीच तुरंत मुम्बई पहुचना संभव नही है. 5 दिन पहले इरफान खान की माँ का भी निधन हुआ था लेकिन मुम्बई से इरफान जयपुर नहीं पहुंच पाए थे .

मुम्बई में इरफ़ान होंगे सुपुर्द-ए-खाक 

जानकारी के मुताबिक इरफान को मुम्बई के सांताक्रुज इलाके में बड़े कब्रिस्तान में इरफान खान को सुपुर्द ए खाक किया जाएगा. जिसे लेकर मुम्बई पुलिस के एक बड़े अधिकारी ने बताया की इरफान के परिवार या करीबियों को उनके अंतिम दर्शन में आने से रोका नही जाएगा . आम लोगो को लॉक डाउन के नियमो का पूरा पालन करना है. अन्तिम सफर में फैंस के शामिल होने पर पूरी तरह रोक है. जो करीबी लोग इरफान खान के अंतिम सफर में शामिल होने आएंगे उन्हें खुद की और दूसरों की सुरक्षा का ख्याल रखना होगा.

इरफान खान के अंतिम सफर, अंतिम दर्शन और सुपुर्द ए खाक के दौरान किसी को किसी भी प्रकार की दिक्कत ना हो इसका ख्याल मुम्बई पुलिस रखेगी . वहीं, दूसरी ओर ये भी कहा जा रहा है कि उन्हें अस्पताल से घर ले जाने की जगह सीधा वर्सोवा कब्रिस्तान ले जाया जाएगा. हालांकि इन दोनों ही जानकारियों पर परिवार की ओर से आधिकारिक बयान आना बाकी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.