Categories
Other

स’न’की ता’ना’शा’ह किम जोंग और उसके समराज्य की ऐसी अजूबा बातें, जो दिमाग हिला देगी

उत्तर कोरिया एक ऐसा देश है जिसके कानून बेहद अ’जी’बो गरीब हैं। ऐसे कानूनों के कारण वहां के लोगों को बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। वहां के सनकी ता’ना’शा’ह किम जोंग उन को तो आप जानते ही होंगे लेकिन उस देश के कानून शायद ही आपको पता हों। आज हम आपको उत्तर कोरिया के ऐसे ही कानूनों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें जो भी जानता है वह आश्चर्यचकित रह जाता है-

यह हैरानी की बात है कि उत्तर कोरिया में पॉट का प्रयोग करना कानून अ’प’रा’ध की श्रेणी में नहीं आता है। यह एक तरह का कागज होता है जिसमें न’शी’ला प’दा’र्थ भरकर पिया जाता है। उत्तर कोरिया में हर पांच साल में चुनाव होते हैं, लेकिन लोगों के पास कोई विकल्प नहीं होता और 100 फीसदी म’त सनकी ता’ना’शा’ह को ही जाते हैं।यहां के चौराहों पर ट्रैफिक लाइट या सिग्नल की कोई व्यवस्था नहीं है। यहां ट्रैफिक पु’लि’स’क’र्मी इशारों से वाहन नियंत्रित करते हैं।

पूरी दुनिया में अभी साल 2018 चल रहा है लेकिन उत्तर कोरिया में साल 106 चल रहा है। इसके पीछे ये कारण है कि इस देश का कलैंडर पूरी दुनिया से अलग है। यह कलैंडर इस देश ने पूर्व ता’ना’शा’ह किम इल-सुंग की जन्मतिथि 15 अप्रैल 1912 पर आधारित है।इस देश में रूंगनाडो मई डे नाम का स्टेडियम है जो दुनिया में सबसे बड़ा है। इस स्टेडियम में कुल 1,50,000 सीटें हैं।इस देश में ता’ना’शा’ह के नियमों को ही सबसे सर्वोच्च माना जाता है। जिसमें दो’षी व्यक्ति की तीन पीढ़ियों को स’जा भुगतनी पड़ती है।

देश में 1990 से यह आवश्यक है कि सभी शिक्षकों को अकॉर्डियन (हारमोनियम जैसा यंत्र) आना चाहिए। आज इस देश का लगभग हर नागरिक इस यंत्र को बजाना जानता है।कहा जाता है कि किम जोंग इल ने एक डॉयरेक्टर को भी अगवा किया था ताकि वह उत्तर कोरिया की जय-जय करने वाली फिल्म बनाए। हालांकि बाद में वह डॉयरेक्टर भागने में कामयाब रहा।इस देश का दावा है कि यहां की साक्षरता दर अमेरिका के बराबर 99 फीसदी है।

यहां पूर्व ता’ना’शा’ह किम जोंग इल के श’री’र को एक कांच के म’क’ब’रे में संरक्षित करके रखा गया है। जो पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र होता है।इस देश में केवल तीन टीवी चैनल हैं। दो चैनलें में तो साप्ताहिक कार्यक्रम आते हैं और एक पर केवल धारावाहिक। आप केवल वही चीज देख सकते हैं जो यहां की सरकार दिखाना चाहती है।ये देश दावा करता है कि यहां के लोग अमेरिका के बराबर साक्षर हैं। वहीं यह भी सच है कि यहां की आधी से ज्यादा जनसंख्या बेहद गरीबी में जीवन व्यतीत कर रही है।

इस देश में हर घर में सरकार नियंत्रित रेडियो लगाए गए हैं जिन्हें यहां के नागरिक बंद नहीं कर सकते।इस देश में केवल एक ही इंटरनेट कंपनी है जो कोरियाई भाषा में इटरनेट उपलब्ध कराती है। यहां के केवल 605 लोग ही इंटरनेट का प्रयोग करते हैं।इस देश में आप मन मुताबिक हेयर स्टाइल नहीं करवा सकते। यहां की सरकार ने केवल 28 तरह के हेयर स्टाइल को मान्यता दी है जिसमें 18 महिलाओं के लिए और 10 पुरुषों के लिए हैं।

इस देश में कोई भी नागरिक ब्लू जींस नहीं पहन सकता क्योंकि यहां की सरकार का मानना है कि वह अमेरिकी पहनावा है। यहां के नागरिकों को बाहरी दुनिया की कोई जानकारी नहीं होती क्योंकि यहां केवल उत्तर कोरियाई समाचार ही प्रसारित किए जाते हैं।इस देश में कोई पॉ’र्न नहीं देख सकता। यदि ऐसा करते हुए कोई पाया गया तो उसे फांसी की सजा दी जाती है।यहां की इतिहास की पुस्तकों में केवल किम जोंग 1 और किम जोंग 2 की गाथाओं के बारे में ही पढ़ाया जाता है।