Categories
News

कुंवारे हो या शादीशुदा हर मर्द को पता होना चाहिए का’मसू’त्र की ये खास बातें…..

खबरें

पहले के ज’माने में पु’रुषों को रि’झाने के लिए म’हिला’ओं को का’मसू’त्र का ज्ञा’न दिया जाता था। इसी तर’ह से का’मसू’त्र में पु’रुषों की कुछ खा’स वि’शेषता’ओं का भी जि’क्र किया गया है जिससे स्त्रि’यां उनकी ओर आ’कर्षि’त होती हैं। का’मसू’त्र के अनुसार जो पु’रुष म’हत्वाकां’क्षी और उ’त्सा’ही होते हैं उनकी ओर स्त्रि’यां आसा’नी से और ज’ल्दी से आ’कर्षि’त होती हैं। तो आइये जानते है इन बातो के बारे में …. 

# का’मसूत्र के अनुसार सा’हसी और शू’रवी’र पुरु’ष ह’मेशा से ही म’हिलाओं को आ’कर्षि’त करने में स’फल रहे हैं। क्यो’कि इनके भीत’र कुछ अल’ग ही गुण होता है।

# का’मसूत्र के अ’नुसार विद्वता वह गुण है जो पु’रुषों में होनी चाहिए। ऐसे गुण वाले पु’रुष म’हिला’ओं को रि’झाने में स’फल रहते हैं।

# का’मसू’त्र के अनुसार जिन पु’रुषों के भी’तर वि’श्वास और दूसरों की भाव’ना’ओं को स’म’झने का गुण होता है वो स्त्रियों को रि’झाने में का’मया’ब रहते हैं।

# का’मसू’त्र के अ’नुसार हर म’हिला पुरु’षों से यह उ’म्मीद करती है कि वो अ’पनी स्त्री से स्था’यी रुप से प्रेम करें।

# का’मसू’त्र के अ’नुसा’र जो पु’रुष किसी भी स्त्री पर मो’हित नहीं होते हैं वो पु’रुष श्रे’ष्ठ माने जाते हैं, ऐसे गुणों वाले पु’रुष स्त्रि’यों को अधि’क भाते हैं। और स्त्रि’या भी ऐसे पु’रुषो की तरफ ज्या’दा आ’कर्षित होती है।

Categories
News

कुंवारे हो या शादीशुदा हर मर्द को पता होना चाहिए का’मसू’त्र की ये खास बातें…..

खबरें

पहले के ज’माने में पु’रुषों को रि’झाने के लिए म’हिला’ओं को का’मसू’त्र का ज्ञा’न दिया जाता था। इसी तर’ह से का’मसू’त्र में पु’रुषों की कुछ खा’स वि’शेषता’ओं का भी जि’क्र किया गया है जिससे स्त्रि’यां उनकी ओर आ’कर्षि’त होती हैं। का’मसू’त्र के अनुसार जो पु’रुष म’हत्वाकां’क्षी और उ’त्सा’ही होते हैं उनकी ओर स्त्रि’यां आसा’नी से और ज’ल्दी से आ’कर्षि’त होती हैं। तो आइये जानते है इन बातो के बारे में …. 

# का’मसूत्र के अनुसार सा’हसी और शू’रवी’र पुरु’ष ह’मेशा से ही म’हिलाओं को आ’कर्षि’त करने में स’फल रहे हैं। क्यो’कि इनके भीत’र कुछ अल’ग ही गुण होता है।

# का’मसूत्र के अ’नुसार विद्वता वह गुण है जो पु’रुषों में होनी चाहिए। ऐसे गुण वाले पु’रुष म’हिला’ओं को रि’झाने में स’फल रहते हैं।

# का’मसू’त्र के अनुसार जिन पु’रुषों के भी’तर वि’श्वास और दूसरों की भाव’ना’ओं को स’म’झने का गुण होता है वो स्त्रियों को रि’झाने में का’मया’ब रहते हैं।

# का’मसू’त्र के अ’नुसार हर म’हिला पुरु’षों से यह उ’म्मीद करती है कि वो अ’पनी स्त्री से स्था’यी रुप से प्रेम करें।

# का’मसू’त्र के अ’नुसा’र जो पु’रुष किसी भी स्त्री पर मो’हित नहीं होते हैं वो पु’रुष श्रे’ष्ठ माने जाते हैं, ऐसे गुणों वाले पु’रुष स्त्रि’यों को अधि’क भाते हैं। और स्त्रि’या भी ऐसे पु’रुषो की तरफ ज्या’दा आ’कर्षित होती है।