Categories
Other

लॉकडाउन के बाद बदलेगा शॉपिंग का तरीका इस तरह कर सकते हैं

देश में अब तक मरीजों की संख्या 12000 के पार पहुंच चुकी है. संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र से सामने आ रहे. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक अब तक देश में इसके 10477 केस सामने आ चुके हैं. वहीं 414 लोगों की इससे मौत हो चुकी है. इसमें से 1488 लोगों का सफलतापूर्वक इलाज किया जा चुका है. महाराष्ट्र में सबसे अधिक 187 मौतें हुई हैं, इसके बाद मध्य प्रदेश में 53, दिल्ली में 32 और गुजरात में 33 मौत हुई हैं. इसके अलावा तेलंगाना में 18 मौतें हुई हैं.

कोरोना वायरस दुनियाभर के लिए एक बड़ी चुनौती बन चुका है. इस वायरस की वजह से भारत में लगातार 40 दिनों का लॉकडाउन लागू है. लॉकडाउन की अवधि 3 मई को खत्म होने वाली है. इसके बाद जनजीवन पटरी पर आने की उम्मीद की जा रही है. लेकिन 3 मई के बाद भी भीड़ को लेकर नियमों में सख्ती रह सकती है. इन्वेस्ट ऑनलाइन डॉट इन के संस्थापक अभिनव अंगिरिश कहते हैं,​ ”जिन लोगों को कोरोना वायरस के खतरे के बारे में जागरूकता है वो अगले कुछ महीनों तक भीड़ में नहीं जाना चाहेंगे. लोग रेस्टोरेंट की बजाए किसी ऑनलाइन फूड डिलिवरी से खाना मंगाना पसंद करेंगे. शॉपिंग के लिए मॉल या दुकान में जाने की बजाए ऑनलाइन शॉपिंग की ओर रुख कर सकते हैं. ग्रॉसरी के लिए राशन के दुकान जाने की बजाए ऑनलाइन मंगाना चाहेंगे.”

ऐसे में यह लगभग तय है कि ई-कॉमर्स/ऑनलाइन कंपनियों की चांदी होगी. इस हालात में ई-कॉमर्स कंपनियों के पास डिमांड बढ़ेगी लेकिन होम डिलिवरी के लिए कंपनियों के पास कर्मचारियों की संख्या कम पड़ सकती है. इस संकट को समझते हुए अधिकतर ई-कॉमर्स कंपनियों ने कर्मचारियों की भर्ती शुरू कर दी है. हाल ही में ऑनलाइन ग्रॉसरी प्रोडक्ट की डिलिवरी करने वाली कंपनी बिगबास्केट और ग्रॉफर्स ने कुल 12 हजार कर्मचारियों की भर्ती का फैसला लिया है.दिल्ली में एक पिज्जा डिलिवरी करने वाला शख्स कोरोना पॉजीटिव निकला है. इस वजह से 72 परिवारों को होम क्वारनटीन कर दिया गया है. साथ ही संपर्क में आए 17 डिलिवरी ब्वॉय को भी क्वारनटीन किया गया है. कहने का मतलब ये है कि अगर कंपनियां अपने कर्मचारी या डिलिवरी ब्वॉय के स्वास्थ्य को लेकर सचेत नहीं रहीं तो कोरोना संक्रमण का फैलाव आसान हो सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.