Categories
News

इ’स श’ख्स ने 70 सा’ल की उ’म्र में कि’या ये का’म, प’त्नी ने कि’या ब’ड़ा खु’लासा, डॉ’क्टर भी हु’ए हैरा’न, दे’खें रो’मांचित तस्वी’रें..

हिंदी खबर

ओ’डिशा: वै’से तो स’भी ने Munna Bhai MBBS (2003) फि’ल्म दे’खा हो’गा। इ’स फि’ल्म में सं’जय द’त्त (मु’न्ना भा’ई) ने MBBS स्टू’डेंट का रो’ल नि’भाया है, MBBS स्टू’डेंट के लिहा’जा से उन’की उम्र अधि’क रह’ती है। चूं’कि उ’न्हें अप’ने मां-बा’प का स’पना था कि उन’का बे’टा MBBS डॉ’क्टर ब’ने इ’सलिए उन्हों’ने MBBS में एड’मिशन लि’या। ज्या’दा उ’म्र हो’ने के बाव’जूद MBBS की प’ढ़ाई पू’री क’रके ए’क अ’च्छे डॉ’क्टर ब’न जा’ते है। Munna Bhai MBBS की कु’छ ऐ’सी ही स्टो’री ओडि’शा के बर’गढ़ जि’ले से सा’मने आ’ई है, ए’क 64 सा’ल की उ’म्र के ए’क व्य’क्ति ने नी’ट की परी’क्षा पा’स क’रके MBBS में ए’डमिशन ले र’हा है। जी हां, Munna Bhai MBBS की य’ह स्टो’री री’ल लाइ’फ से नि’कल रि’यल ला’इफ ने देख’ने को मि’ली है।

64 की उ’म्र में MBBS में लि’या एडमि’शन

भार’त में शाय’द य’ह पह’ली बा’र हो’गा, ज’ब को’ई 64 सा’ल की उ’म्र में MBBS में एड’मिशन ले र’हा है। चलि’ए जा’नते है क्या है ओ’ड़िशा के इ’स मु’न्ना भा’ई MBBS की क’हानी…

कि’शोर ने पा’स की NEET की परी’क्षा

ओ’डिशा के बर’गढ़ जि’ले के अताबी’रा में रह’ने वा’ले ज’य कि’शोर प्रधा’न ए’क से’वानिवृत्त बैं’क अ’धिकारी है। उन्हों’ने इ’स सा’ल NEET-2020 की परी’क्षा पा’स की औ’र MBBS प्रथ’म व’र्ष के छा’त्र के रू’प में दाखि’ला लि’या। ज’य कि’शोर का क’हना है कि व’ह ज’ब त’क जी’वित हैं, लो’गों की से’वा कर’ना चा’हते हैं। ब’ता दें कि SBI के पू’र्व अधिका’री ज’य कि’शोर ने विक’लांगता आ’रक्षण श्रे’णी के त’हत वी’र सु’रेंद्र सा’ई प्रौद्यो’गिकी विश्वविद्या’लय में एड’मिशन लि’या।

इति’हास में दु’र्लभ घ’टनाओं में से ए’क- निदे’शक

विश्ववि’द्यालय के निदेश’क ल’लित मे’हर ने क’हा, “य’ह दे’श में चि’कित्सा शि’क्षा के इति’हास में दुर्ल’भ घटना’ओं में से ए’क है। प्रधा’न ने इत’नी उ’म्र में मेडि’कल छा’त्र के रू’प में प्र’वेश प्रा’प्त कर’के ए’क उदाह’रण स्थापि’त कि’या है। ज’य कि’शोर ने अ’च्छा रैं’क प्रा’प्त कि’या औ’र VIMSAR के लि’ए यो’ग्य हो ग’ए हैं।“

बेटि’यों की मौ’त ने उ’न्हें NEET के लि’ए कि’या प्रे’रित

व’हीं, ज’य कि’शोर ने बता’या कि हा’ल ही में उन’की दो बेटि’यों की मौ’त ने उ’न्हें NEET के लि’ए बै’ठने औ’र MBBS को’र्स में दा’खिला ले’ने के लि’ए प्रेरि’त कि’या। MBBS को’र्स पू’रा हो’ने त’क मैं 70 व’र्ष का हो जाऊं’गा। उ’म्र मे’रे लि’ए सि’र्फ ए’क सं’ख्या है। MBBS कर’ना मे’रा को’ई व्यावसा’यिक इरा’दा न’हीं है। मैं त’ब त’क लो’गों की से’वा क’रना चा’हता हूं ज’ब त’क मैं जी’वित हूं।

पिछ’ले मही’ने हु’आ बे’टी का नि’धन

उन्हों’ने क’हा कि मे’री एक बे’टी की पि’छले मही’ने दुर्भाग्य’पूर्ण निध’न हो ग’या था, परि’वार उ’स उप’लब्धि का आ’नंद न’हीं ले स’का, जि’स तर’ह से इ’से मना’या जा’ना चा’हिए था। ज’य कि’शोर ने अप’ने पढ़ा’ई के बा’रे में जान’कारी दे’ते हु’ए क’हा, “मैं अ’पनी बे’टी की या’द में अध्यय’न चिकि’त्सा जा’री र’खने के लि’ए दृ’ढ़ हूं। ज’ब प्रधा’न एमबी’बीएस कार्य’क्रम पू’रा क’रेंगे तो श्री प्रधा’न 69 व’र्ष के हो ग’ए। य’ह पू’छे जा’ने प’र कि क्या व’ह प’ढ़ाई के बा’द डॉ’क्टर के रू’प में कि’सी निय’मित नौ’करी में शा’मिल हो’ने के इच्छु’क हैं। मैं’ने प’हले ही अप’नी नि’यमित नौ’करी में शा’मिल हो’ने का चर’ण पा’र क’र लि’या है। जो भी मैं अग’ले पां’च व’र्षों के दौ’रान सी’खूंगा, मैं अ’पने जी’वन के बा’की हि’स्सों में नि’जी तौ’र प’र अभ्या’स करूं’गा।