Categories
Other

कोरोना पर बंगाल का हाल जानने जा रही मोदी की टीम को ममता ने बोलीं ये बड़ी बात

देश में अब तक मरीजों की संख्या 17000 के पार पहुंच चुकी है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक अब तक देश में इसके 17265 केस सामने आ चुके हैं. वहीं 543 लोगों की इससे मौत हो चुकी है. इसमें से 2546 लोगों का सफलतापूर्वक इलाज किया जा चुका है. आपको बता दें कि संक्रमण के सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र से सामने आ रहे है.

कोरोना वायरस से एक ओर पूरा देश त्रस्त है। तमाम राज्य सरकारें और केंद्र सरकार मिलकर इस आपदा से मुकाबला कर रहे हैं। हालांकि इस आपदा के समय भी राजनीति जारी है। केंद्र सरकार ने पश्चिम बंगाल समेत कुछ राज्यों में इंटर मिनिस्ट्रीयल सेंट्रल टीम (आईएमसीटी) भेजने का फैसला लिया है। ये टीमें राज्यों में कोरोना के जमीनी हालात और लॉकडाउन उल्लंघन की शिकायतों पर अपनी रिपोर्ट केंद्र सरकार को भेजेंगी। हालांकि केंद्र के इस कदम का पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कड़ा विरोध किया है।’ ममता ने आपत्ति जताते हुए कहा, ‘मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से राज्य के इन जिलों को चुने जाने का आधार पूछती हूं। मुझे यह कहते हुए अफसोस हो रहा है कि बिना किसी स्पष्ट कारण के मैं इसकी अनुमति नहीं दे पाऊंगी, क्योंकि यह संघ की भावना के खिलाफ है।’

ममता ने सोमवार को ट्वीट कर केंद्र सरकार पर निशाना साधा और इन टीमों को राज्य में भेजे जाने का स्पष्ट कारण पूछा। ममता ने लिखा, ‘हम कोरोना महामारी के खिलाफ केंद्र सरकार के सहयोग और सुझावों का स्वागत करते हैं। हालांकि केंद्र सरकार ने पश्चिम बंगाल समेत कुछ अन्य राज्यों में आईएमसीटी को भेजने का जो फैसला लिया है, उसका उद्देश्य समझ से परे है।’केंद्र ने पत्र में कहा, ‘यह तो स्पष्ट है कि पश्चिम बंगाल के कोलकाता, हावड़ा, पूर्वी मेदिनीपुर, उत्तरी 24 परगना, दार्जीलिंग, कैलिमपोंग और जलपाईगुड़ी में हालात ठीक नहीं हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.