Categories
News

मो’दी सर’कार की खा’स स्की’म: हुआ ब’ड़ा ऐ’लान, लोगों को मि’लेंगी ये स’भी सुवि’धाए, आज ही क’रें अ’पना….

ताजा खबर

नई दिल्ली: कें’द्र सर’कार ने आ’युष्मान भा’रत की त’र्ज पर आ’युष्मान सह’कार योज’ना शु’रू करने का ऐ’लान किया है। स’रकार ने भा’रत के स्वा’स्थ्य सेवा’ओं के बुनि’यादी ढां’चे में और सुधा’र ला’ने के मकस’द से इ’स यो’जना की शुरुआ’त की है।

इ’स योज’ना के त’हत रा’ष्ट्रीय सह’कारी विका’स निग’म (NCDC) ग्रामी’ण भार’त में स्वा’स्थ्य से’वा के इंफ्रा’स्ट्रक्चर के विका’स के लि’ए सह’कारी समि’तियों को 10,000 क’रोड़ रुप’ये का ऋ’ण उप’लब्ध करा’एगा। आ’युष्मान सह’कार योज’ना के तह’त सह’कारी संस्था’ओं को ग्रा’मीण इला’कों में अस्प’ताल, मेडि’कल कॉ’लेज खो’लने से ले’कर अ’न्य स्वा’स्थ्य सुवि’धाओं का विका’स होगा।

केंद्री’य कृ’षि राज्य’मंत्री पुरुषो’त्तम रूपा’ला ने न’ई स्की’म आ’युष्मान सह’कार की शुरुआ’त की। इ’स यो’जना के तह’त रा’ष्ट्रीय सह’कारी विका’स निग’म सह’कारी समि’तियों को 10,000 क’रोड़ रुपये के लो’न उ’पलब्ध कराएगा। इस’से ग्रामी’ण भार’त में स्वा’स्थ्य से’वा के बुनि’यादी ढां’चे का विका’स किया जाएगा। NCDC के मैने’जिंग एडि’टर सं’दीप नाय’क ने बताया कि दे’श में करी’ब 52 अस्पता’ल सह’कारी समिति’यों द्वा’रा संचा’लित किए जाते हैं। इ’न अस्पता’लों में बे’ड की सं’ख्या 5,000 है।

ग्रामी’णों क्षे’त्रों में मिले’गी ये खा’स सुवि’धाएं

आ’युष्मान सह’कार योज’ना के तह’त ग्रामी’ण क्षे’त्रों में हॉस्पि’टल, हेल्थके’यर व एजु’केशन इंफ्रा’स्ट्रक्चर की स्थाप’ना, आधुनि’कीकरण, वि’स्तार, मरम्म’त, रिनो’वेशन को क’वर कि’या जाए’गा। य’ह सह’कारी अस्प’तालों की मे’डिकल व आ’युष शि’क्षा शु’रू क’रने में सहायता प्रदान करेगी। स्कीम परिचालन आवश्य’कताओं को पू’रा करने के लिए व’र्किंग कैपि’टल और मा’र्जिन ध’न भी उप’लब्ध क’राएगी। जा’री बया’न के मुताबि’क स्की’म महिला’ओं की अधि’कता वा’ली सह’कारी समिति’यों को 1 प्रतिश’त का इंट्रे’स्ट सब’वेंशन उ’पलब्ध करा’एगी।

उन्हों’ने बता’या कि NCDC के को’ष से सह’कारिताओं द्वा’रा स्वा’स्थ्य से’वा के प्राव’धान को प्रोत्सा’हन दि’या जा’एघा। सरका’र की तर’फ से जा’री बया’न के मुता’बिक, जि’न भी सह’कारी समि’तियों के उपनि’यमों में स्वा’स्थ्य से’वा से संबं’धित गति’विधियों के लिए उचि’त प्राव’धान है, वे NCDC से क’र्ज ले सकें’गी। NCDC की तर’फ से यह वि’त्तीय मद’द या तो रा’ज्य सर’कारों के मा’ध्यम या पा’त्र सह’कारी समिति’यों को सी’धे मिलेगी। अ’न्य स्रो’तों से सब्सि’डी या अनु’दान प’रस्पर अनु’बंध के हि’साब से किया जाएगा।