Categories
Other

हार्व’र्ड यूनिव’र्सिटी की रिस’र्च: मो’टापा बड़ना बन सकता है कैं’सर का का’रण! शरीर में फैट होने पर कैं’सर…..

डेली न्यूज़

  • हार्ट डिसीज और डायबि’टीज ही नहीं कैंस’र का खतरा भी ब’ढ़ाता है मोटापा
  • मोटा’पा कैंसर से लड़ने वाली कोशि’काओं को कम’जोर करता है

मोटा’पा दिल की बी’मारी और डायबि’टीज का खतरा बढ़ा’ता है। अब मोटा’पे का एक और ख’तरा सामने आया है, वो है कैं’सर। हार्वर्ड यूनिव’र्सिटी के वैज्ञा’निकों ने अपनी रिस’र्च में दावा किया है कि मोटा’पा कैं’सर का खत’रा बढ़ाने के साथ कैंस’रस ट्यू’मर की ग्रो’थ को भी तेज करता है।

शरीर का फैट कैसे कैं’सर को बढ़ने में मदद करता है, ऐसे सम’झें

  • जान’वरों पर हुई इस स्ट’डी में सामने आया कि मोटा’पा रोगों से लड़ने वाले इम्यू’न सि’स्टम की उन कोशि’काओं को कम’जोर करता है जो कैं’सर से लड़ती हैं।
  • जर्न’ल सेल में प’ब्लिश रिस’र्च कहती है, खाने में फैट अधिक लेते हैं तो शरी’र में CD8+ T सेल्स की सं’ख्या घटती है। यह कोशि’काएं ट्यू’मर से लड़ती हैं।
  • जब शरीर में फैट होता है तो इससे एन’र्जी लेकर कैंसर कोशि’काएं खुद को विक’सित करने लगती हैं, इस तरह ट्यू’मर की ग्रोथ बढ़ती है।
  • वैज्ञा’निकों के मुता’बिक, CD8+ T सेल्स का प्रयोग कैं’सर के इला’ज में दी जाने वाली इम्यूनो’थैरेपी में किया जाता है।

मोटा’पे से जुड़ी 5 बातें आपको जरू’रत मा’लूम होनी चाहिए

1. सिर्फ वजन का बढ़ना मो’टापा नहीं

मुम्बई के जसलोक हॉस्पि’टल के कंस’ल्टेंट बेरिया’ट्रिक सर्जन डॉ. संजय बोरूडे के मुता’बिक, मोटापा कितना है यह तीन तरह से जांचा जाता है। पहले तरी’के में शरीर का फैट, मस’ल्स, हड्डी और बॉडी में मौ’जूद पानी का वजन जांचा जाता है। दूसरा है बॉडी मास इंडे’क्स। ती’सरी जांच में कू’ल्हे और कमर का अनु’पात देखा जाता है। ये जांच बता’ती हैं आप वाकई में मोटे है या नहीं।

2. यह बीमा’रियों की नींव है

आम भाषा में कहें तो मोटा’पा ज्या’दातर बीमा’रियों की नींव है। डाय’बिटीज, ब्लड प्रे’शर, जॉइंट पेन और कैं’सर तक की वजह चर्बी है। फैट जब बढ़ता है तो शरीर के हर हिस्से में बढ़ता है। चर्बी से निक’लने वाले हार्मोन नुक’सान पहुं’चाते हैं इस’लिए शरीर का हर हिस्सा इससे प्रभा’वित होता है। जैसे- पेन्क्रि’याज का फैट डायबि’टीज, कि’डनी का फैट ब्लड प्रे’शर, हार्ट से आस’पास जमा चर्बी ह’दय रोगों की वजह बनती है।

3. दो तरह से बढ़ता है मो’टापा

मोटा’पा दो वजहों से बढ़ता है। पहला आनुवां’शिक यानी फै’मिली हि’स्ट्री से मिलने वाला मो’टापा। दूसरा, बाहरी कारणों से बढ़ने वाला मोटा’पा। जैसे ऐसी चीजें ज्यादा खाना जो तला हुआ या अ’धिक कैलोरी वाला है। जैसे फा’स्ट और जंक फूड। सि’टिंग जॉब वालों में मोटा’पे का कारण कै’लोरी का बर्न न होना है।

4. इसे घटाने का आसान त’रीका समझें

रोजाना 30 मिनट की वॉ’क, सीढ़ी चढ़ना, रात का खाना ह’ल्का लेना और घर के कामों को करके भी मो’टापा आसानी से नियं’त्रित किया जा सकता है। यह इसलिए भी जरूरी है क्योंकि यह शरीर के साथ दि’माग के लिए भी नुकसा’नदेह है।

5. थोड़ा बद’लाव में खान’पान में करें

ना’श्ते में अंकु’रित अनाज यानी मूंग, चना और सोया’बीन को अंकुरित खाएं। ऐसा करने से उनमें मौ’जूद पोषक तत्‍वों की मात्रा बढ़ती है। मौ’समी हरी सब्जि’यों को डा’इट में शामिल करें। अधिक फैट वाला दूध, बटर तथा पनीर लेने से बचें।