Categories
News

नीतीश कुमार ने अपने ही बया’न से मारी पलटी, चुना’व जीत’ने के बाद नीतीश बोले- लोग मेरी…..

डेली न्यूज़

नी’तीश कुमार ने एक चुना’वी रैली में राज’नीति से संन्‍यास की बात कही थी, लेकिन एन’डीए के सर’कार में वा’पसी के साथ ही उनके सुर बद’ले हुए लग रहे हैं ।

New Delhi, Nov 13: बिहार विधान’सभा चुनाव में एन’डीए ने एक बार फिर शान’दार प्रदर्शन करते हुए, बहु’मत हासिल किया है । हालां’कि, इस बार जेडी’यू बीजे’पी से कम सीटें ही ला पाई है । इस चुनाव में बी’जेपी 74 सीटों के साथ बि’हार की दूसरी सबसे बड़ी पा’र्टी बन गई है, तो वहीं ज’दयू 43 सीटों के साथ तीसरे नंबर पर है । गुरुवार शाम को सीएम नीतीश कुमार ने चुना’व बाद प्रेस कॉन्फ्रें’स रखी । मीडिया से बात’चीत में नी’तीश यहां कुछ ऐसा बोल गए जो अब हैरान करने वाला है ।

संन्‍यास वाले बयान से मारी पलटी ..
दरअ’सल सवाल उनके उस ब’यान से जुड़ा था, जिसमें उन्‍होंने संन्‍या’स की बात कही थी । इस प्रेस कॉन्‍फ्रें’स में जब उनसे चु’नाव प्रचार के अंति’म समय में दिए गए ‘आखिरी चुनाव’ वाले बया’न के बारे में सवा’ल किया गया, तो नीती’श कुमार ने बड़ी चा’लाकी से पल’टी मार दी । नीतीश बोले कि सभी लोगों ने उ’नकी बात को गलत सम’झ लिया। नीतीश कुमार यहां अपने संन्‍या’स वाले बयान का कुछ अल’ग ही स्‍पष्‍टी’करण देते नजर आए ।

हम तो हमेशा यही बोलते हैं …
नीतीश कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रें’स में कहा – “वो आप लोगों ने ठीक नहीं सुना। बात सम’झ गए न। हम हर अंतिम चुना’वी सभा में ये बोलते हैं। अंत भला तो सब भला। अगर देखि’एगा, उसका पीछे का देखिएगा, आगे का देखिएगा। कुल मिला’कर देखिएगा। तब एक पूरी बात है।” नीतीश का ये बयान हैरान करने वाला है क्‍योंकि उनके अंतिम चुना’व के बयान के बाद राजनी’तिक गलि’यारों में खूब चर्चा हुई थी और तब नीतीश कोई सफाई देने नहीं सामने आए थे कि बयान को गलत समझ लिया गया है ।

क्‍या कहा था नीतीश ने …
आपको बता दें विधान’सभा चुनाव के लिए धम’दाहा की प्रचार रैली में नी’तीश ने जन’सभा को संबो’धित करते हुए कहा था- “जान लीजिए, आज चुनाव का आखि’री दिन है। परसों चुनाव है और ये मेरा अंतिम चुना’व है। अंत भला तो सब भला।” उन्‍होंने कहा कि – आप बताइए वोट दीजि’एगा। हम इन्हें जीत का माला समर्पित कर दें? आप सबने आ’श्वस्त किया। अब परसों आप सब लोग वोट कर के विजयी बनाइ’एगा।” नीतीश कु’मार के इस बयान के बाद राजनीतिक गलि’यारों में अट’कलें लग रही थीं कि यह उनका आखि’री चुनाव है।