Categories
News

पाकिस्तान को मुस्लिम देशों के संगठन ने दिया तगड़ा झटका, भारत के लिए…..

डेली न्यूज़

पाकि’स्तान को इस्ला’मिक देशों के संगठन ओआईसी से एक बार फिर कश्मीर पर झ’टका लगा है. इस्ला’मिक सहयोग संग’ठन यानी ओआ’ईसी के विदेश मंत्रि’यों की बैठ’क में कश्मी’र मुद्दे को शा’मिल नहीं किया गया है. हालां’कि, पाकि’स्तान इसे मानने को तैयार नहीं है और अपना चेहरा बचाने के लिए लीपा-पोती करने की को’शिश कर रहा है.

ओआईसी ने अंग्रे’जी और अरबी दोनों भाषा में ब’यान जारी किया है. यह बयान ओआ’ईसी की काउं’सिल ऑफ फॉरन मिनि’स्टर्स (CFM) की शुक्रवार को नाइ’जर की राज’धानी नायमी में होने वाली बैठक के लिए है. इसमें क’श्मीर का किसी भी एजेंडा के रूप में जिक्र नहीं किया गया है. सऊदी अरब सीएफएम की बैठक का नेतृ’त्व कर रहा है.

OIC meeting

पाकि’स्तानी अख’बार डॉन ने लिखा है कि इस बार क’श्मीर ओआ’ईसी के एजेंडे से तब बाहर है जब पाकिस्तान के संबंध स’ऊदी अरब और सं’युक्त अरब अमी’रात से बेहद खराब चल रहे हैं. पाकि’स्तान के विदेश मंत्रालया के प्रवक्ता ने स’वालों के बीच कहा है कि कश्मीर ओआईसी का स्था’यी मुद्दा है. उन्होंने कहा कि कश्मीर का वि’शेष दर्जा ख’त्म किए जाने के बाद सीए’फएम (काउंसिल ऑफ फॉरेन मिनिस्टर) की यह पहली बैठक है. पाकि’स्तान को उम्मीद थी कि इस बार सीए’फएम की बैठक में कश्मी’र पर भारी सम’र्थन मिलेगा.

OIC meeting

पाकि’स्तान एक इस्ला’मिक देश है और कश्मीर को भी वो मुसल’मानों से जो’ड़ता रहा है. इसी तर्क के आधार पर वो इस्ला’मिक देशों के संग’ठन ऑर्गेना’इजेशन ऑफ इस्ला’मिक कोऑ’परेशन (ओआईसी) में जोर-शोर से उठाता रहा है. लेकिन अब तक कोई सम’र्थन नहीं मिला और भारत सऊ’दी के रिश्ते मज’बूत होते गए. यहां तक कि यूएई ने पाकि’स्ता’नियों को नया वीजा देने पर प्रति’बंध लगा दिया है.

OIC meeting

पाकि’स्तान के विदेश मंत्रा’लय के प्र’वक्ता जाहिद हाफिज चौधरी ने वीकली प्रेस ब्री’फिंग में कश्मीर मुद्दे पर सत्र में मज’बूत समर्थन मिलने की उम्मीद जा’हिर की. उन्होंने कहा कि कश्मीर मुद्दा ओआ’ईसी के एजेंडे का सबसे पुराना विवाद है. पाकि’स्तानी प्रव’क्ता ने कहा कि ओआईसी दश’कों से इस मुद्दे पर सीएफ’एम प्रस्ता’वों और स’मिट के जरिए अपनी राय स्प’ष्ट करता रहा है. चौधरी ने कहा कि ओआ’ईसी ने कई बार कश्मीर मुद्दे पर आवाज उठाई है और बयान जारी कर संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ता’वों के मुता’बिक निप’टारे की मांग की है.

OIC meeting

जाहि’द चौध’री ने कहा कि ओआ’ईसी का जम्मू-कश्मीर को लेकर बना कॉन्टै’क्ट ग्रुप पिछले 15 मही’नों में तीन बार बैठकें बुला चुका है. उन्होंने कहा कि इस स’मूह की आखि’री बैठक में भी भारत से अपने अवै’ध कदम को वाप’स लेने और इलाके में मानवा’धि’कारों का उल्लं’घन रोकने की मांग की गई थी.

OIC meeting

इस बैठक में पाकि’स्तान का प्रति’नि’धित्व विदेश मंत्री शाह मह ‘मूद कुरैशी करेंगे. ओआ’ईसी की बैठक में शामिल होने के लिए वह बुध’वार को ही नाइजर के लिए रवाना हो चुके हैं. नाइजर के लिए निक’लने से पहले कु’रैशी ने पत्र’कारों से कहा कि वो बै’ठक में कश्मीर और इस्ला’मोफो’बिया का मुद्दा उठाएंगे. कुरै’शी ने कहा, मैं बैठक में क’श्मीर मुद्दे और इस्ला’मोफो’बिया के मुद्दे पर फोकस रखूंगा. हम मु’स्लिम देशों की तमाम चुनौ’तियों और समस्या’ओं को उठाएंगे. कुरैशी बैठक के दौरान इस्ला’मिक देशों के सम’कक्षों के साथ भी मुला’कात करेंगे.

OIC meeting

अग’स्त महीने में कु’रैशी ने ओआ’ईसी से कश्मी’र मुद्दे पर विदेश मंत्रि’यों की बैठक बुलाने में टालम’टोल बंद करने के लिए कहा था. कुरैशी ने धम’की भरे अंदा’ज में कहा था कि अगर सऊ’दी इस्ला’मिक सहयोग संग’ठन की बैठक नहीं बुलाता है तो पाकि’स्तान कश्मीर पर अपने साथ खड़े मु’स्लिम देशों की अलग से बैठक बुला लेगा. कु’रैशी के इस बयान से सऊदी अरब काफी नारा’ज हो गया था. पाकि’स्तान को इसकी कीमत चुकानी पड़ी और सऊदी से लिया गया 2 अरब डॉ’लर का कर्ज लौटा’ना पड़ा.