Categories
News

रि’सर्च में हुआ खुला’सा: पार्ट’नर को हग करने से होते है क’ई फायदे, जानकर आप डेली करोगे पा’र्टनर को…

हिंदी खबर

जब आप अपने दो’स्‍तों या’रों से मिल’ते हैं तो आ’पकी प’हली प्रति’क्रिया उ’नसे ग’ले मि’लने (Hug) की हो’ती है. य’ही न’हीं, द’फ्तर में भी हा’थ‍ मि’लाना आ’म बा’त है. क्‍या आ’प जा’नते हैं कि ज’ब आ’प ऐ’सा क’रते हैं तो इस’के कि’तने फाय’दे मिल’ते हैं? ए’क रि’सर्च में यह पा’या ग’या है कि स्‍ने’ह सं’बंध जै’से हा’थ था’मना, ग’ले ल’गाना ब्‍ल’ड प्रे’शर के लेव’ल और हा’र्ट बी’ट को क’म क’र स’कता है. जिस’से हा’र्ट से जु’ड़ी क’ई स’मस्‍याओं का निदा’न सं’भव है. ह’म आ’प के’वल अ’पने पार्ट’नर के सा’थ ही ऐ’सा न’हीं कर सक’ते, ब’ल्कि जिन’को भी आ’प अप’ने दि’ल के क’रीब मान’ते हैं उन’के सा’थ आ’प ग’ले मिल’ते हैं. ऐ’सा क’रने प’र ना के’वल आ’प दो’नों के बी’च नजदी’कियां बढ़’ती हैं, साथ ही मा’नसिक स्‍वा’स्‍थ्‍य में भी य’ह लाभदाय’क हो’ता है. तो जा’नते हैं कि के’वल स्कि’न के ट’च से ही कि’स तर’ह मान’सिक सेह’त को दु’रुस्‍त क’र स’कते हैं.

मान’सिक तना’व को कर’ता है क’म

अ’गर आ’प परेशा’न हैं, कि’सी स’मस्‍या से घि’रे हु’ए हैं और को’ई आप’का करी’बी आप’को ह’ग (Hug) क’रता है तो आप पा’एंगे कि आप बेह’तर फी’ल क’र रहे हैं. ऑक्स’फोर्ड विश्ववि’द्यालय में मनो’वैज्ञानिक प्रोफे’सर रॉबि’न डन’बर का कह’ना है कि ग’ले मिल’ने से तना’व तो क’म हो’ता ही है, मान’सिक सेह’त में भी ते’जी से सुधा’र हो’ता है. इसलि’ए अग’ली बा’र ज’ब भी कि’सी करी’बी को परेशा’न दे’खें तो उ’ससे ग’ले मिल’ना ना भू’लें.