Categories
News

था’ने में घु’स सूअ’रों ने ज’माया क’ब्जा: फै’लाई ऐ’सी गंद’गी, पुलि’स वा’लों का हु’आ बु’रा हा’ल, दे’खें तस्वी’रें..

हिंदी खबर

पुलि’स वा’ले रक्ष’क हो’ते हैं। ऐ’सा ह’में बच’पन से बता’या जा’ता है। स’मय सब’से बल’वान हो’ता है, य’ह भी ब’ताया ग’या है। लेकि’न पाकि’स्तान में तो सूअ’र भी पुलि’सवालों से बल’वान निक’ले। क’हानी सिं’ध प्रां’त के नौश’हरो फि’रोज (Naushahro Feroze) जि’ले के ए’क था’ने की है।

नौश’हरो फि’रोज जि’ले स्थि’त मो’रो पु’लिस स्टेश’न (Moro police station) में मंगल’वार (12 जनव’री, 2021) का दि’न आ’म दि’न की तर’ह था। व’हाँ के स’भी पुलि’सवाले आ’म दि’न की तर’ह अ’पनी हन’क (दुनि’या की ल’गभग ह’र पु’लिस हन’क में ही रह’ती है) में का’म क’र र’हे थे। त’भी सू’अरों ने था’ने प’र धा’वा बो’ल दि’या।

था’ने में मौ’जूद पुलिस’वाले अ’पनी जा’न ब’चाने (इस्ला’म में सूअ’र को हरा’म मा’ना जा’ता है) को बाह’र भा’गे। मत’लब गो’ली-बं’दूक स’ब था’ने के अंद’र औ’र सा’रे के सा’रे पुलिस’वाले खा’ली हा’थ था’ने के बा’हर! सूअ’रों का इत’ना खौ’फ कि को’ई भी अं’दर जा’ने को तैया’र न’हीं।

प्रत्यक्षद’र्शियों ने बता’या कि सू’अरों ने था’ने प’र क’ब्जा ज’माए र’खा क्यों’कि पुलि’सवाले स’ब बा’हर इंत’जार क’र र’हे थे। कु’छ दे’र बा’द ए’क सूअ’र खु’द ही बा’हर निक’ल आ’या ले’किन दू’सरे सूअ’र को बा’हर निका’लने के लि’ए पुलिस’वालों को ले’नी प’ड़ी।

हैर’त की बा’त है! जि’स पाकि’स्तान में कि’या जा र’हा है, व’हाँ इ’न्हीं गै’र-मुस्लि’मों की मद’द से ए’क था’ने प’र से जान’वरों (सू’अरों) का क’ब्जा हट’वाया ग’या। गै’र-मुस्लि’मों को पा’किस्तान में जिं’दा र’हना है तो ध’र्म-परि’वर्तन ही ए’कमात्र रा’स्ता है – इ’च्छा से या ज’बरन!