Categories
Other

आखिर अचानक कहाँ गायब हो गयीं राज कपूर की रुसी हीरोइन

मशहूर बॉलीवुड एक्टर राज कपूर से तो आप सभी वाकिफ ही होंगे. उन्होंने अपनी फिल्म ‘मेरा नाम जोकर’ में बेहतरीन काम किया था, और उन्होंने सभी लोगों के दिलों में अपनी ख़ास जगह बना ली थी. राज साहब 70 के दशक के एक  बड़े अभिनेता थे.  आज हम आपको राज कपूर की एक रुसी हीरोइन के बारे में बताने जा रहे  हैं.  आज राज कपूर का 95 वां जन्मदिन हैं, तो आज उनकी जिंदगी से जुड़े से कुछ किस्से बताने जा रहे हैं.

दरअसल , रुसी  अभिनेत्री और मशहूर बैले  डांसर सेनिया रेबेंकीना से पूछा गया था की क्या आप हिंदी में कुछ बोल सकती हैं क्या ? तो इस सवाल पर उन्होंने ने जवाब दिया कि-  ‘मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूं’

सेनिया, राज कपूर की साल 1970 में आई मशहूर फ़िल्म ‘मेरा नाम जोकर’ में काम कर चुकी हैं. फ़िल्म में उन्होंने सर्कस में काम करने वाली एक डांसर का किरदार निभाया था जिसे राजू (राज कपूर) से इश्क़ हो जाता हैं.

सेनिया से बात करने पर उन्होंने कहा की – “मुझे राज कपूर के बारे में बात करने पर बेहद ख़ुशी होगी. लेकिन फ़िलहाल मैं इटली में हूं और छुट्टियां मना रही हूं. आप मुझे 3-4 दिन बाद फ़ोन कर सकते हैं तब तक मैं मास्को लौट जाऊंगी और इत्मीनान से आपसे बात करूंगी.”

सेनिया फ़िलहाल अपने वतन रूस में ही रहती हैं और 74 साल की उम्र में भी बैले डांसिग के अपने शौक को उन्होंने ज़िंदा रखा हैं.

राज कपूर से मुलाक़ात

सेनिया ने बताया कि वो जब 24-25 साल की थीं तब राज कपूर से उनकी पहली मुलाक़ात हुई थी. राज कपूर ‘मेरा नाम जोकर’ की तैयारियां कर रहे थे और मॉस्को आए हुए थे. एक शाम उन्होंने सेनिया का बैले डांस देखा और उनसे ]खूब प्रभावित हुए थे.

उन्होंने सेनिया को अपनी फ़िल्म में काम करने का प्रस्ताव दिया था . सेनिया राज कपूर के नाम से वाक़िफ़ थीं, क्योंकि उनकी फ़िल्में ‘आवारा’ और ‘श्री 420’ रूस में बहुत मशहूर रही थीं और उनके गाने रूसी लोग गुनगुनाते रहते थे. बता दें, कि सेनिया ने ये ऑफ़र स्वीकार कर लिया और वो शूटिंग के लिए भारत आ गईं.

सबका ध्यान रखते थे राज कपूर’

सेनिया का फ़िल्म में उनका ज़्यादा बड़ा रोल नहीं था. लेकिन वो अपने इस अनुभव को यादगार मानती हैं. वो कहती हैं, “सेट पर राज कपूर सबका बड़ा ध्यान रखते थे. उनके सेट पर चाहे बड़ा कलाकार हो या कोई जूनियर. सबको एक सा ट्रीटमेंट उनसे मिलता था. लेकिन एक बार कैमरा चालू हो जाने पर वो बड़े कठोर हो जाते और जब तक कोई बेस्ट शॉट ना दे दे, तब तक संतुष्ट नहीं होते थे.”

सेनिया बताती हैं कि रूस में अब के युवा ज़रूर हॉलीवुड फ़िल्में ही ज़्यादा देखते हैं लेकिन 60 और 70 के दशक में राज कपूर रूस में एक बहुत बड़ा नाम थे और उनकी फ़िल्में वहां बहुत हिट हुआ करती थी.

कपूर परिवार से कैसे हुई दोस्ती

सेनिया ‘मेरा नाम जोकर’ की शूटिंग के बाद रूस चली गईं थी और बैले डांसिग में अपने करियर को जारी रखा. वो राज कपूर और उनके परिवार के संपर्क में आज भी हैं.

वो बताती हैं कि जब भी वो भारत आती है तो राज कपूर के परिवार से ज़रूर मिलतीं. वो कपूर परिवार की मेज़बानी की बहुत तारीफ़ करती हैं.

साल 1988 में जब राज कपूर की मौ-त की खबर मिली थी तब उन्हें बहुत बड़ा धक्का लगा था.

सेनिया बताती हैं कि राज कपूर की मौ-त के बाद भी वो कई फ़िल्म समारोहों में हिस्सा लेने जब भी भारत आतीं तो राज कपूर के बेटों रणधीर, ऋषि और राजीव कपूर से ज़रूर मिलती हैं.

‘मेरा नाम जोकर’ के 39 सालों बाद साल 2009 में उनके बेटे ऋषि कपूर की फ़िल्म ‘चिंटू जी’ में सेनिया रेबेंकीना ने एक छोटी सी भूमिका भी अदा की थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.