Categories
News

बड़ी खबर :राकेश टिकैत का नया ऐलान, बंगाल चलो का किया आवाहन

नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान आन्दोलन बॉर्डर पर 84 दिनों से जमे हुए हैं. सरकार के साथ 11 दौर की बैठक हो चकी है. सड़क से लेके संसद तक गरमा-गरम बहस के बाद भी बात नहीं बनी तो किसानों ने अब आन्दोलन का रुख बंगाल की तरफ मोड़ दिया है. किसान आंदोलन की गूंज अब जल्द ही पश्चिम बंगाल में भी सुनाई देने लगेगी. किसान संगठनों ने फैसला किया है कि बंगाल में पंचायतें की जाएंगी. बंगाल चलो का आवाहन महा पंचायत के मंच से किया जा रहा है. रोहतक जिले के सांपला में किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि हरियाणा, पंजाब, राजस्थान और उत्तर प्रदेश अब एक साथ खड़ा है और आने वाले दिनों में पूरे देश में पंचायते की जायेंगी.

किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा की श्री राम रघुवंशी थे और हम उनके वंशज है भाजपा का श्री राम चन्द्र जी से कोई लेना देना नहीं है.जहाँ तक महात्मा गाँधी और हनुमान जी को आन्दोलन जीवी कहने का उनका बयान है वे उसपर कायम है और माफ़ी उन्हें नहीं,प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को मंगनी चाहिये. राकेश टिकैत ने ये भी कहा की ये जिस तरह के कानून हैं उससे आम जनता ही नहीं पशु भी भूखे मर जायेंगे. साथ ही टिकैत ने ऐलान किया कि पश्चिम बंगाल में भी किसान काफी दुखी हैं.वहां भी पंचायतें होंगी. किसान नेता बलवीर सिंह राजेवाल ने कहा कि देश को बेशक राजनीतिक आजादी मिली है, लेकिन आर्थिक आजादी अभी तक नहीं आई है और इसी को लेकर हम लड़ाई लड़ रहे हैं.