Categories
News

बैंक से पैसा निकालने पर RBI ने लगायी रोक जाने क्या है पूरा मामला

भारतीय रिज़र्व बैंक ने एक और बैंक से पैसे निकालने पर रोक लगा दी है. आरबीआई ने महाराष्ट्र के नाशिक स्थित इंडिपेंडेंस-को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड से पैसा निकालने पर रोक लगा दी है. हलाकि आरबीआई ने बयान जारी कर कहा कि बैंक के 99.88 फीसदी जमाकर्ता पूर्ण रूप से ‘ डिपोजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कारपोरेशन ‘बिमा योजना के दायरे में है बिमा योजना के तहत बैंक का प्रत्येक जमाकर्ता अपनी पाँच लाख रुपए तक की जमा राशि पर जमा बिमा दावा रकम डीआईसीसी प्राप्त करने का हक़दार है. निकासी पर पाबन्दी छह महीने की अवधि के लिए होगी.

आपको बता दें की आरबीआई ने इससे पहले महाराष्ट्र के जालना जिले में मन्ता अर्बन को-ऑपरेटिव बैंक पर रोक लगायी थी.आरबीआई के मुताबिक उसने इस बैंक को कुछ निर्देश दिए हैं जो 17 नवम्बर 2020 को बैंक बंद होने के बाद से छह माह तक प्रभावी होंगे. इससे पहले वित्तीय सकंट से गुजर रहे निजी क्षेत्र के लक्ष्मी विलास बैंक पर एक महीने तक के लिए पाबंदियां लगा दी गयी थीं. गौरतलब है की पिछले साल 2020 के दिसम्बर में आरबीआई महाराष्ट्र के कराड जनता सहकारी बैंक का लाइसेंस रद्द कर दिया था. इस बैंक का लाइसेंस रद्द करते हुए आरबीआई ने कहा था कि इसका लाइसेंस सात दिसम्बर दो हजार बीस से रद्द कर दिया गया है. इसकी वजह बताते हुए आरबीआई ने कहा था की बैंक के पास न तो पर्याप्त पूंजी है और न आगे इसकी कमाई की संभावना दिख रही है.

आरबीआई ने साफ़ किया है की बैंक के मौजूदा स्थिति को देखते हुए जमा कर्ताओं को बचत या चालू खाता अथवा अन्य किसी भी खाते से जमा राशि में से कोई भी रकम निकालने की अनुमति नहीं होगी. जो कुछ शर्तों पर निर्भर है इसके तहत बैंक के मुख्य कार्यपालक अधिकारी आरबीआई के पूर्व अनुमति के बिना कोई भी कर्ज नहीं देंगे. या नवीनीकरण नहीं करेंगे. इसके साथ ही वे कोई निवेश भी नहीं करेंगे और न ही कोई भुगतान करेंगे.