Categories
Other

अब RBI ने इस बैंक का लायसेंस किया रद्द, ग्राहक इस तरह से निकाल सकते हैं पैसे

देश में अब तक कोरोना वायरस से मरीजों की संख्या 39000 के पार पहुंच चुकी है. वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक अब तक देश में इसके 39980 केस सामने आ चुके हैं. साथ ही 1305 लोगों की इससे मौत हो चुकी है. इसमें से 9950 लोगों का सफलतापूर्वक इलाज किया जा चुका है. देश में कोरोना के कारण लॉकडाउन हैं. जिससे देश की अर्थव्यवस्था भी ख़राब हो गयी हैं. और सायबर क्राइम भी बहुत ज्यादा हो रहे हैं.

ग्राहकों के पैसों की सुरक्षा के लिए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) लगातार बैंकों पर सख्ती दिखा रहा है. आरबीआई ने देश के कई बड़े या छोटे बैंकों पर कार्रवाई की है. किसी बैंक पर जुर्माना लगाया है तो किसी पर कई तरह की पाबंदियां लगा दी हैं. मुंबई स्थित CKP सहकारी बैंक का लाइसेंस रद्द कर दिया है. इसका मतलब ये हुआ कि सीकेपी सहकारी बैंक डिपॉजिट स्वीकारने समेत कोई भी बैंकिंग बिजनेस नहीं कर पाएगा. ऐसे में सवाल है कि ग्राहकों के जमा राशि का क्या होगा. आइए विस्तार से जानते हैं..

CKP सहकारी बैंक की वेबसाइट के मुताबिक बैंक के 1,32,170 जमाकर्ता हैं.वहीं, बैंक के पास 485 करोड़ रुपये का कुल जमा, 161 करोड़ रुपये का कर्ज और 239 करोड़ रुपये का निगेटिव नेटवर्थ है. आरबीआई के मुताबिक बैंक के 99 फीसदी से अधिक जमाकर्ताओं को उनका पूरा पैसा ‘डिपॉजिट इंश्‍योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन (डीआईसीजीसी) से मिल जाएगा. उन्‍हें घबराने की बिल्‍कुल जरूरत नहीं है. डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रे​डिट गारंटी कॉरपोरेशन (DICGC) के नियमों के मुताबिक, अगर कोई बैंक डूब जाता है तो उस बैंक में अब ग्राहकों की 5 लाख रुपये तक की जमा सिक्योर्ड है.

इसका मतलब ये हुआ कि CKP सहकारी बैंक के जमाकर्ताओं को उनकी 5 लाख रुपये तक की जमा रकम वापस मिल जाएगी. अगर किसी की इससे ज्यादा रकम जमा है तो 5 लाख को छोड़कर बाकी की जमा राशि डूब जाएगी. डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रे​डिट गारंटी कॉरपोरेशन भारतीय रिजर्व बैंक की पूर्ण स्वामित्व वाली अनुषंगी कंपनी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.