Categories
News

आ’पकी इ’न हर’कतों के कार’ण क’हीं आप’का पा’र्टनर भी तो न’हीं ब’ना र’हा दूस’रे से सं’बंध, जानि’ए क्या है…

हिंदी खबर

प्या’र में इं’सान जित’ना आ’जाद हो’ता है, उत’ना ही रि’श्ते में ह’र ए’क कद’म प’र सो’च- सो’चकर चल’ना पड़’ता है। क’ई बा’र आ’प कि’सी ची’ज को य’दि बा’र-बा’र कर’ते हैं तो आ’पके पा’र्टनर प’र उ’सका नका’रात्मक प्र’भाव भी प’ड़ स’कता है। जो कि आ’ने वा’ले सम’य में आप’के रि’श्ते को कम’जोर ब’नाता है। इस’लिए अ’पने पा’र्टनर की इच्छा’ओं का सम्मा’न क’रें, अ’पने रि’श्ते को नका’रात्मक भा’व से दू’र र’खें। अग’ली स्लाइ’ड्स से जा’निए कि कि’न ची’जों को रि’श्ते में ला’ने से प्या’र ए’क स’मय प’र बो’झ ल’गने ल’गता है। 

बा’त-बा’त प’र रू’ठना
प्या’र में रू’ठना-म’नाना तो चल’ता र’हता है ले’किन को’ई बा’त-बा’त प’र बु’रा मा’नने ल’ग जा’ए त’ब तो रि’श्ते को नि’भाना थो’ड़ा मुश्कि’ल हो जा’ता है। क्यों’कि फि’र पू’रा स’मय प्या’र प’र कें’द्रित न हो’कर रू’ठने-मना’ने में बी’त जा’ता है। शु’रू में तो हम’सफर म’ना भी ले’ता है ले’किन स’मय के सा’थ फि’र व’ह चि’ढ़ने लग’ता है इस’लिए छो’टी- मो’टी बा’तों के लि’ए रूठ’ने के बजा’य उ’न्हें नज’रअंदा’ज क’र दें औ’र खु’शी-खु’शी र’हें। 

अ’पने अनु’सार ढा’लने का प्र’यास
प्या’र का अ’र्थ है, जो जै’सा है उ’से वै’सा ही स्वीका’र क’रो औ’र सा’मने वा’ले के लि’ए खु’द को भी बद’लने का प्र’यास न क’रो। य’दि बा’र-बा’र आ’प सा’मने वा’ले को कमि’यां ब’ताने ल’गते हैं तो वो परे’शान हो’ने लग’ता है। वो खु’द को बहु’त हीन’भावना की दृ’ष्टि से दे’खने लग’ता है औ’र फि’र वो उ’स तर’ह से प्या’र भी न’हीं क’र पा’ता है औ’र आ’प दो’नों ही एकदू’सरे के सा’थ खु’श न’हीं र’ह पा’ते हैं इस’लिए सा’मने वा’ले को खु’शी-खु’शी स्वी’कार लो। 

श’क
आ’पका पा’र्टनर आप’के प्र’ति निष्ठा’वान है तो भूल’कर भी उ’स प’र श’क न क’रें क्यों’कि ए’क बा’र य’दि आ’पके म’न में श’क का की’ड़ा पन’प ग’या तो ये आ’पके लि’ए हमे’शा की स’मस्या ख’ड़ी क’रेगा औ’र ये बा’त आप’के पार्ट’नर को प’ता च’ल ग’ई कि आ’प उ’न प’र श’क क’रने ल’गे हैं त’ब तो औ’र भी ब’ड़ी स’मस्या इस’लिए दो’नों ही ए’क दूस’रे प’र वि’श्वास रख’ते हु’ए इ’स रि’श्ते को आ’गे ले’कर च’लें। 

इनसि’क्योरिटी
आ’पके पार्ट’नर से य’दि आप’को प्या’र है तो इनसिक्योरि’टी को आ’पको ज’गह न’हीं दे’ना चाहि’ए। आप’को अप’ने पार्ट’नर को स’मझना चा’हिए। आ’पको को’ई ह’क न’हीं कि ज’ब आ’पके पा’र्टनर उ’नके दो’स्तों औ’र क’जिन्स से मि’लते हैं तो आ’प इ’नसिक्योर हो’ने ल’गें। य’दि य’ही व्यव’हार आ’पका पा’र्टनर भी आ’पके सा’थ कर’ता तो आ’पको कै’सा ल’गता, ब’स ए’क बा’र आ’प इ’स वि’षय में ज’रूर सो’चें। आप’के जी’वन में औ’र भी सा’रे लो’ग हैं, जि’नके सा’थ आ’प अप’नी खु’शी- ग’म सा’झा क’र स’कते हैं।