Categories
News

Breaking-: बिहार के रिजल्ट से ठीक पहलें आयी ऐसी खबर, मची खलब’ली….

खबरें

बिहार विधानसभा चुनाव ख़त्म होने के बाद अब सबको नतीजों का इंतज़ार है. लेकिन नतीजों से पहले विभिन्न चैनलों के एग्जिट पोल्स ने राजनीतिक सरगर्मियां बढ़ा दी है. सभी एग्जिट पोल्स ने एक सुर में बिहार में सत्ता परिवर्तन की बात कही है. साथ ही एग्जिट पोल में ये भी सामने आया कि NDA से अलग होकर चुनाव लड़ना तेजस्वी यादव के लिए भी फायदेमंद साबित नहीं हुआ. मोदी के हनुमान ने अयोध्या में ही आग लगा दी. यानी कि चिराग की पार्टी लोजपा किंग मेकर बनने में तो नाकाम रही ही साथ ही उसने NDA का गेम बिगाड़ कर महागठबंधन को खूब फायदा पहुँचाया.

मतगणना से एक दिन पहले महागठबंधन की तरफ से मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार तेजस्वी यादव का जन्मदिन है. एग्जिट पोल देख कर जोश में आये राजद कार्यकर्त्ता पूरे जोश में तेजस्वी यादव का जन्मदिन मना रहे हैं. साथ ही तेजस्वी को विभिन्न राजनीतिक पार्टियों के बड़े नेताओं की तरफ से भी जन्मदिन की शुभकामनाएं मिल रही है. चिराग पासवान ने भी तेजस्वी यादव को जन्मदिन की सुभकामनाएँ दी. चिराग की शुभकामनाओं ने बिहार के राजनीतिक गलियारों में चर्चाओं को गर्म कर दिया.

चिराग पासवान ने तेजस्वी को बधाई देते हुए ट्वीट किया, ‘जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनाएं. ईश्वर से प्रार्थना है आप दीर्घायु हों और अपने जीवन को सफल बनाने मे कामयाब रहें. आज आप का जन्मदिन है भगवान के दर्शन और आशीर्वाद से आप का दिन शुभ हो.’

चिराग पासवान के इस ट्वीट के अगर सियासी मायने निकाले जा रहे हैं तो वो अनायास नहीं हैं बल्कि इसके पीछे एक वजह भी है. विधानसभा चुनाव के दौरान चुनावी रैलियों में चिराग पासवान के निशाने पर सिर्फ और सिर्फ नीतीश कुमार रहें. उन्होंने तेजस्वी यादव या उनके पिता लालू यादव के जंगल राज का कोई जिक्र नहीं किया. हालाँकि जब चिराग से एक इंटरव्यू में ये सवाल किया गया कि क्या चुनाव बाद चिराग पासवान, तेजस्वी यादव के साथ खड़े नज़र आ सकते हैं? तो उन्होंने इससे साफ़ इनकार कर दिया था. हालाँकि भारतीय राजनीति में ये भी एक सत्य है कि कोई किसी का परमानेंट दुश्मन नहीं होता. साथ आने की गुंजाइश हमेशा बनी रहती है.