Categories
Other

मरने से पहले इस वजह से पाकिस्‍तान जाना चाहते थे ऋषि कपूर, इच्छा रह गयी अधूरी

बॉलीवुड एक्टर ऋषि कपूर के निधन के बाद उनके करीबी सोशल मीडिया पर उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं।ऋषि कपूर के यूँ अचानक चले जाने से किसी को भी यक़ीन नहि हो रहा। बॉलीवुड का रोमांस किंग कहे जाने वाले अभिनेता को आज पूरी दुनिया याद कर रही है। ऋषि कपूर के जाने के बाद उनके जीवन से जुड़ी बहुत सी बातें सामने आ रही हैं। मरने से पहले पाकिस्‍तान जाना चाहते थे ऋषि कपूर ये ख़बर आयी. आखिर क्यूं पाकिस्तान जाना चाहते थे ऋषि हम आपको बताते हैं.

बॉलीवुड अभिनेता ऋषि कपूर मरने से पहले एक बार पाकिस्‍तान जाने के लिए बेताब थे, लेकिन उनके निधन से उनकी ये ख्‍वाहिश अब कभी पूरी नहीं होगी। दरअसल, पेशावर में कपूर हवेली है जहां ऋषि के पिता राज कपूर का भी जन्म हुआ था। इस हवेली को पृथ्‍वीराज कपूर के पिता दीवान बिशेश्‍वरनाथ कपूर ने 1918-1922 में बनवाया था। देश के विभाजन के बाद 1968 में इस हवेली को एक ज्‍वैलर हाजी खुशाल रसूल ने नीलामी में खरीदा था।  ऋषि कपूर का इस हवेली से इतना गहरा नाता था जब 1990 में वो इसको देखने पेशावर गए थे तब वहां से वो इसकी मिट्टी अपने साथ लेकर आए थे।

2016 में ऋषि ने अपनी एक पुरानी तस्वीर शेयर की थी जिसमें वह पेशावर हवेली में खड़े दिख रहे थे। उन्होंने लिखा था, ‘किसी ने ये भेजी थी। तस्वीर में रणधीर और मैं पेशावर में कपूर हवेली के बाहर दिख रहे हैं। जैसा तस्वीर में दिख रहा है कि हमारा गर्मजोशी से स्वागत किया गया था।’ इसके बाद साल 2017 में उन्होंने एक ट्वीट में ख्वाहिश जाहिर की थी, ‘मैं 65 साल का हूं और मरने से पहले पाकिस्तान देखना चाहता हूं। मैं चाहता हूं कि मेरे बच्चे अपनी जड़ें देखें।

यहां पर उनके पिता राज कपूर का बचपन बीता था। यहीं पर उनके दादा पृथ्‍वीराज कपूर ने बचपन से लेकर अपनी जवानी तक के दिन बिताए थे। 1930 में पृथ्‍वीराज कपूर इस हवेली को छोड़कर अपने भविष्‍य को उज्‍ज्वल बनाने के लिए मौजूदा भारत आ गए थे। आपको बता दें कि ऋषि कपूर के परदादा और उनके भी पिता दीवान हुआ करते थे। पेशावर का ये पंजाबी हिंदू परिवार पाकिस्‍तान की शान हुआ करता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.