Categories
Other

SBI ग्राहक जान लें ये खबर : आज से बदल रहे हैं बैंक के ये 6 नियम

अगर आपका भी हैं (SBI) स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के ग्राहक तो ये खबर पढ़ना आपके लिए बहुत जरुरी है. आपको बता दें कि देश लका सबसे बड़ा बैंक (स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया) आज से यानि कि 1 october 2019 से बैंक के कुछ नियम बदल रहा है. त्यौहारों के आने से पहले बैंक ने अपने ग्राहकों को बड़ा तोहफा दिया है. आइये आपको बताते हैं बैंक के वो नियम जो आज से बदल रहे हैं.

चेक बुक में हुए ये हैं बदलाव

SBI ने चेक बुक से लेन देन शुल्कों की नई लिस्ट जारी की है, अब होगा चेक से लेन देन महंगा. पहले बैंक सेविंग अकाउंट पर साल में 25 चेक देता था लेकिन नए नियम के अनुसार 10 ही चेक मुफ्त मिलेंगे और साथ ही मुफ्त चेक के बाद अगर आपको 10 चेक लेने हैं तो आपको 40 रूपये देने पड़ेंगे जबी की पहले सिर्फ 30 रूपये देने पढ़ते थे. साथ ही आपको जीएसटी अलग से चुकाना पड़ेगा.

चेक बाउंस होने पर देना होगा इतना जुर्माना

1 अक्टूबर से बदले नियमों के अनुसार चेक बाउंस होने पर 168 रूपये लगेंगे. किसी भी कारण अगर चेक वापस होता है तो चेक जारी करने वाले पर 150 रूपये के साथ जीएसटी देना होगा.

ATM के नियम में हुआ बड़ा बदलाव

SBI ने 1 अक्टूबर से एटीएम के चार्जेज में भी बदलाव कर दिया है. नए नियम के अनुसार SBI ग्राहक अब केवल 10 बार ही फ्री डेबिट लेन-देन कर पाएंगे, ये लिमिट पहले सिर्फ 6 लेन देन की थी.

लोन के नियमों में SBI ने बदलाव

1 october 2019 से स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया ने हाउसिंग , एमएसएमई और रिटेल लोन के सारे फ्लोटिंग रेट लोन के लिए Repo Rate को अपनाने का बड़ा फ़ैसला लिया है.

SBI दे रहा रहा है मिनिमम बैंलेंस अकाउंट में 80 फीसदी राहत

नए नियमों के अनुसार sbi ग्राहकों को मंथली मिनिमम बैलेंस सिर्फ 3 हज़ार रूपये रखना होगा जो कि पहले पांच हज़ार था. अगर ग्रहकों के खाते में 75% से कम बैलेंस हुआ तो 15 रूपये जुर्माना लगेगा.

SBI ने बदले NEFT और RTGS के चार्ज

NEFT और RTGS का शुल्क भी बदल गया है. 10 हज़ार रुपये तक का एनईएफटी करने पर अब दो रुपये के साथ जीएसटी लगेगा और वहीं ग्राहकों को दो लाख से ज्यादा की राशि NEFT करने पर 20 रुपये और जीएसटी देना होगा. अब RTGS दे दो लाख से पांच\ लाख के लेन देन पर 20 रूपये और पांच लाख से ज्यादा पर 40 रूपये प्लस जीएसटी देने होंगे.




Leave a Reply

Your email address will not be published.